रीवा: जानिये ऐसा क्या हुआ कि ट्रेन छोड़ सीधे प्लेटफॉर्म की ओर भागे यात्री

रीवा

रीवा। प्लेटफार्म में शंटिंग के चलते शनिवार को यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। शंटिंग के कारण आनंद विहार को आउटर से ग्रीन सिंग्नल नहीं मिलने के कारण एक घंटे तक ट्रेन खड़ी रही है। जिसके चलते यात्रियों को सामन लेकर स्टेशन पहुंचने एक किमी. पैदल चलना पड़ा। जब ट्रेन को ग्रीन सिग्रल मिला तो वह प्लेटफर्म क्रमांक दो पर खाली पहुंची। इस तरह से तीन ट्रेनों का संचालन प्रभावित हुआ, जिससे यात्रियों की मुश्किल बड़ गई।

बताया जा रहा है कि रेवांचल एक्सप्रेस अपने निर्धारित समय सुबह 8बजे से डेढ़ घंटा विलंब 9.30 बजे पहुंची। इस ट्रेन में लगे कोच की शंटिंग किया जाना था। लेकिन प्लेटफार्म क्रमांक एक पर खड़ी मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन यात्रा स्पेशल को ११ बजे रवाना करने के बाद शंटिंग चालू की गई। जिसके कारण 11 बजे आने वाली आनंद विहार-रीवा को आउटर में रोक दिया गया है। जिससे कुछ देर तक तो यात्री ट्रेन में इंतजार करते रहे, लेकिन जब सिग्रल नहीं मिला तो आउटर से ही पैदल चल दिए। यह देख अन्य यात्री यहां तक कि एसी कोच के यात्री भी ट्रेन छोडक़र पैदल ही स्टेशन पहुंच गए। रीवा स्टेशन में ट्रेनों की संख्या बढऩे के बाद भी अब तक यार्ड नहीं बनाया गया है। ऐसे में अतिरिक्त ट्रेन के संचालन व विलंब के कारण अक्सर ऐसी स्थिति बन जाती है।

शटल व रीवा इंदौर को रोका
रेवांचल एक्सप्रेस की शंटिंग के दौरान तीन ट्रेनों का संचालत प्रभावित हुुआ। इससे रीवा-अम्बेडकर नगर व शटल सवारी गाड़ी एवं रीवा-भोपाल सप्ताहिक स्पेशल का संचालन प्रभावित हुआ है। रीवा-अम्बेडकर जहां अपने निर्धातिर समय दोपहर 15.15 की जगह दोपहर 1.45 पर पहुंची। वहीं रीवा से भोपाल को जाने वाली स्पेशल अपने निर्धारित समय 1.20 की जगह एक घंटे विलंब से रवाना हुई। वहीं शटल दोपहर 3.30 बजे रवाना हुई। जिससे यात्रियों काफी परेशानी उठानी पड़ी।

शंटिंग में नहीं थी जगह
बताया जा रहा है कि रीवा से मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन स्पेशल ११ बजे रवाना होनी थी। इसके कोच पहले ही रीवा पहुंच गए।इसके बाद रेवांचल एक्सप्रेस लेट होने के कारण प्लेटफार्म में पहुंची तो कोच को बदलने के लिए शंटिंग में जगह नहीं थी। परिणाम स्वरूप रेवांचल एक्सप्रेस को प्लेटफार्म क्रमांक 2 में खड़ी कर शंटिंग करना पड़ा है। जिससे ट्रेनों का संचालन प्रभावित हुआ।