रीवा : थानेदार द्वारा किये गए रेप केस में युवती की माँ ने रखी नयी शर्त

रीवा

रीवा। बीते एक सप्ताह से महिला सशक्तिकरण के वन स्टॉप सेंटर में रह रही किशोरी को घर भेजने के लिये चाइल्ड वेलफेयर सोसायटी द्वारा की जा रही लगातार बैठक के बाद भी कोई निर्णय नहीं हो पा रहा है।

शनिवार को एक बार फिर आयोजित की गई बैठक में सोसायटी द्वारा मां-बेटी को आमने सामने लाया गया। इस दौरान सोसायटी के सदस्यों ने मां बेटी को साथ रहने की समझाइश दी, लेकिन इसके बाद भी बात नहीं बनी और मां-बेटी अपनी जिद पर अड़ी रहीं। बताया गया कि किशोरी की मां उसे अपने साथ ले जाने को तैयार हुई, लेकिन उसने बेटी के सामने ही शर्त रख दी। जिसमें मां ने बेटी से मेडिकल परीक्षण कराने की बात कही है। मां की इस शर्त को किशोरी मानने को तैयार नहीं हुई और उसने मां के साथ रहने से इंकार कर दिया। सोसायटी का यह प्रयास भी विफल रहा। लेकिन जैसे-जैसे दिन गुजरते जा रहे हैं, वैसे-वैसे किशोरी के रहने की समस्या बढ़ती जा रही है।

बताया गया कि वन स्टाप सेंटर में किसी को स्थाई रूप से नहीं रखा जा सकता है। यहां रहने का अधिकतम समय पांच दिन ही निर्धारित है।