रीवा: अपने ही सरकार को लोकसभा में घेरा, फिर सुर्ख़ियों में आएं रीवा सांसद जनार्दन मिश्रा

मध्यप्रदेश राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय रीवा

रीवा। सांसद जनार्दन मिश्रा ने लोकसभा में नियम 377 के तहत सरकारी स्कूलों की दुर्दशा पर अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि देश भर में शासकीय विद्यालयों की हालत दयनीय होती जा रही है। गरीबों के बच्चों या सीमित आय वाले परिवारों के बच्चे ही यहां अध्ययन के लिए आते हैं।

ऐसे विद्यालयों में मात्र गरीब या मजबूर परिवारों के छात्र पढ़ते हैं इस कारण शिक्षा विभाग इन्हें काम चलाऊ ढंग से संचालित कर रहा है। शिक्षा का स्तर भी यहां गिरता जा रहा है। जन प्रतिनिधि व अधिकारियों द्वारा इन विद्यालयों में पढऩे वाले छात्र-छात्राओं की गुणवत्ता पर ध्यान नहीं दिया जाता। केवल मौखिक व कागजी खाना पूर्ति के अलावा कोई सार्थक प्रयास नहीं हो रहा है। अधिकतर जन प्रतिनिधि व सरकारी अधिकारी-कर्मचारी अपने बच्चों को निजी अंग्रेजी माध्यम के विद्यालयों मे प्रवेश दिलाते हैं।

इस वजह से यह आवश्यक है कि ग्राम पंचायतों और नगरीय निकायों के जन प्रतिनिधियों एवं बड़े पदों पर बैठे लोगों के बच्चों का प्रवेश सरकारी स्कूलों में होने लगे तो व्यवस्थाएं सुधर सकती हैं।

कक्षा आठ तक समाप्त हो अंग्रेजी
सांसद मिश्रा ने यह भी कहा है कि सभी शासकीय व निजी विद्यालयों मे कक्षा 8 तक की शिक्षा मातृभाषा के माध्यम से कराई जाए। तथा आठवीं कक्षा तक के अंग्रेजी माध्यम की पढ़ाई में रोक लगाई जाए। इस वक्तव्य से सांसद ने अपनी ही पार्टी की सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया है। प्रदेश में सैकड़ों की संख्या में सरकारी स्कूल कुछ समय पहले ही बंद किए गए थे, क्योंकि वहां पर छात्र संख्या बहुत कम थी।

सरकारी स्कूलों की दशा पर पहले भी बोलते रहे
सरकारी स्कूलों की दुर्दशा को लेकर सांसद जनार्दन मिश्रा पहले भी बोलते रहे हैं। जिले के भ्रमण पर वह जब भी जाते हैं तो सरकारी स्कूलों का दौरा जरूर करते हैं। वहां के शिक्षकों और छात्रों से बात करते हैं। गांवों में चौपाल लगाकर कई बार ग्रामीणों से यह भी कहाकि वह अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में दाखिला कराएं और सरकार की योजनाओं का लाभ लें। शिक्षकों से भी कहा कि मन लगाकर पढ़ाई कराएं।

स्कूल का टायलेट साफ करते वीडियो हुआ था वायरल
सांसद जनार्दन मिश्रा रीवा जिले के गुढ़ तहसील में भुसुड़ी गांव में सरकारी स्कूल में कुछ महीने पहले पहुंचे थे। जहां का टायलेट खराब होने के चलते उन्होंने अपने हाथ से साफ किया था। इस दौरान किसी ने सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल कर दी। यह करोड़ों लोगों तक पहुंचा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी वीडियो को ट्वीट किया और कहा कि सांसद अच्छा काम कर रहे हैं।