REWA: महिला अधिकारी का आडियो वायरल, पढ़िए पूरी खबर

REWA: महिला अधिकारी का आडियो वायरल, पढ़िए पूरी खबर

रीवा

REWA: महिला अधिकारी का आडियो वायरल, पढ़िए पूरी खबर

REWA। आगनबाड़ी कार्यकर्ताओं दबाव बनाकर भ्रष्टाचार किए जाने का एक मामला सामने आया है। जिसमें सेक्टर सुपरवाइजर और आगनबाड़ी कार्यकर्ता के बीच बातचीत का एक आडियो वायरल हुआ है। जिसमें कार्यकर्ता और रुपए देने में असमर्थता जाहिर कर रही है।

दावा है कि यह आडियो गंगेव परियोजना के सेक्टर सुपरवाइजर का है। लंबे समय से उक्त सेक्टर सुपरवाइजर द्वारा आगनबाड़ी कार्यकर्ताओं पद दबाव बनाकर रुपए लिए जाते रहे हैं। वह निरीक्षण पर भी निकलती है तो वाहन के ईंधन खर्च एवं अन्य के बदले रुपयों की मांग करती है।

LOCKDOWN में अकाउंट में पैसे हुए ख़त्म तो यहाँ मिलेंगे, जरूर पढ़िए

इसके पहले परियोजना की करीब दो दर्जन से अधिक आगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने संभागायुक्त, कलेक्टर, महिला बाल विकास के संयुक्त संचालक एवं जिला कार्यक्रम अधिकारी के पास शिकायत दर्ज कराई थी। कहा जा रहा है कि विभाग ने भी शिकायत को सही पाया था संबंधित महिला अधिकारी को नोटिस देकर जवाब भी मांगा गया था लेकिन राजनीतिक दबाव की वजह से उस पर होने पर कार्रवाई रोक दी गई है।

1 जून से ये 200 ट्रेनें चलेंगी, इनके लिए आज सुबह 10 बजे से ऑनलाइन बुकिंग होगी। ..देखे लिस्ट

आरोप है कि जिन आगनबाड़ी केन्द्रों की कार्यकर्ताओं ने इसका विरोध किया उनका वेतन भी काटा जा रहा है। पहले तो वेतन कटौती के डर से शिकायतें नहीं की जा रही थी लेकिन अब खुलकर विरोध शुरू हो गया है, लगातार विरोध के बाद भी विभाग ने अब तक उसे हटाया नहीं है। सोशल मीडिया पर वायरल आडियो महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों तक पहुंच गया है। जिस पर संज्ञान भी लिया जा रहा है।

वहीं कई प्रभावशाली नेताओं की सिफारिश फिर कार्रवाई पर अड़ंगा बन सकती है। इस संबंध में महिला एवं बाल विकास विभाग की संयुक्त संचालक ऊषा सिंह सोलंकी ने बताया कि सोशल मीडिया से आडियो की जानकारी मिली है। इसकी सत्यता का परीक्षण कराने के लिए जिला कार्यक्रम अधिकारी से कहा जाएगा। जांच में जो भी तथ्य सामने आएंगे उसके अनुसार कार्रवाई भी होगी।

जिनके पास आधार कार्ड है उनके लिए सबसे बड़ी खबर, ये नहीं पढ़ा तो…

पहले भी निलंबित हो चुकी है महिला अधिकारी

महिला एवं बाल विकास विभाग की जिस अधिकारी के आडियो का दावा किया जा रहा है उसे पहले भी भ्रष्टाचार और रिश्वत मांगने के आरोप में निलंबित किया जा चुका है। जिस पर कई नेताओं का दबाव अधिकारियों पर बनाया गया तो फिर से बहाली कर दी गई है।

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:  FacebookTwitterWhatsAppTelegramGoogle NewsInstagram

Facebook Comments