रीवा : रंग लायी पूर्व मंत्री पुष्पराज सिंह की मेहनत, 25 सालो से कर रहे थे कोशिश

रीवा

रीवा. बात उस समय की है जब लगातार 25 वर्षो से पूर्व मंत्री पुष्पराज सिंह व्यंजनों को बनाने का प्रयाश चालू की था उनके प्रयासों के चलते विंध्य के व्यंजनों की आज वह स्थान मिल रहा है, जिस चाहत के साथ पूर्व मंत्री ने खुद व्यंजनों को बनाने और उसे प्रमोट करने का अभियान शुरू किया था। खास व्यंजनों में शामिल इंद्रहर को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय की ओर से पाठ्यक्रम में शामिल किया जाना पूर्व मंत्री के प्रयासों का ही नतीजा माना जा रहा है।

पूर्व मंत्री पुष्पराज सिंह जब बात की गयी तो उन्होंने बताया की २५ वर्ष पहले उन्होंने व्यंजनों को बनाने का सिलसिला शुरू किय था फिर ताज होटल के एक ट्रेनिंग प्रोग्राम में शामिल हुए। ट्रेनिंग के बाद उन्होंने यह निर्णय लिया कि विंध्य के व्यंजनों की ख्याति को वह देश-विदेश तक पहुंचाएंगे। निर्णय के मद्देनजर ही उन्होंने भले ही पूर्व प्रदेश सरकार में मंत्री तक की जिम्मेदारी निभायी। लेकिन किचन से ताल्लुक नहीं टूटा।आज भी पूर्व मंत्री विंध्य के फेमस व्यंजन न केवल खुद बनाते हैं बल्कि उन्हें पौष्टिकता के साथ स्वादिष्ट बनाने का हुनर रखते हैं।

पूर्व मंत्री पुष्पराज सिंह को इन चीज़े में है हुनर 
पूर्व मंत्री पुष्पराज सिंह बांधवेश मटन, चिकन बघेली, इंद्रहर, दाल की पुरी, कटहल की सब्जी, मउहरी, गुझिया, खुर्चन व खटगोश जैसे व्यंजनों को बनाने विशेष हुनर रखते हैं। इतना ही नहीं उनसे लोग इन व्यंजनों को बनाने का प्रशिक्षण भी प्राप्त करने पहुंचते हैं।

ख़ुशी जाहिर की 
इग्नू के पाठ्यक्रम में इंद्रहर का शामिल होना पूर्व मंत्री के ही प्रयासों का नतीजा माना जा रहा है। विभिन्न कार्यक्रम में उनकी ओर से बनाए गए डिशेज की परिचर्चा और प्रसारण से इंद्रहर जैसे डिशेज को ख्याति मिली और वह अंतत: पाठ्यक्रम में शामिल किया गया।