REWA: अवैध सम्बन्ध के कारण युवक की हत्या, स्कूल में मिली लाश

Maharashtra से पैदल Rewa के लिए चल दिया युवक, रास्ते में सड़क दुर्घटना से मौत

रीवा

Maharashtra से पैदल Rewa के लिए चल दिया युवक, रास्ते में सड़क दुर्घटना से मौत

रीवा (REWA). लॉकडाउन (LOCKDOWN) में भोजन की समस्या हुई तो गांव के लिए पैदल ही निकल पड़े, लेकिन दुर्भाग्य देखिए कि रास्ते में सड़क दुर्घटना का शिकार हो गए। अब विडंबना यह कि वहां की सरकार शव भी भेजने के लिए तैयार नहीं। हालांकि बाद में पूर्व विधायक के प्रयास से शव मऊगंज लाया गया। बताया गया कि कोरोना संक्रमण रोकने लगाए लॉकडाउन (LOCKDOWN) में बड़ी संख्या में रीवा (REWA) जिले के लोग दूसरे शहरों में फंसे हैं। महाराष्ट्र (Maharashtra) के जलगांव में मऊगंज के कई गांवों के युवक नौकरी के लिए गए थे।

REWA : SEMARIYA विधायक KP TRIPATHI ने कहा, गाँव में बनेगा मास्क..

लॉकडाउन (LOCKDOWN) का पहला चरण समाप्त होने के बाद दूसरा चरण तीन मई तक के लिए लागू कर दिया गया है। इस बीच जलगांव में रह रहे युवकों का काम पहले से बंद हो गया था, सामाजिक संगठनों द्वारा दिए जा रहे भोजन से अब तक भूख मिटाते रहे लेकिन वहां व्यवस्था में कुछ बदलाव के चलते भोजन की समस्या होने लगी। इसलिए युवकों का दल रीवा (REWA) के लिए पैदल ही निकल पड़ा था।

जलगांव की सीमा पार करने के बाद जैसे ही युवकों का दल सड़क पर आगे बढ़ रहा था, इसी बीच एक तेज रफ्तार वाहन ने टक्कर मार दी। जिससे हनुमना थाना क्षेत्र के तिलिया गांव के रहने वाले राजबहोर पिता भारत कोल की मौके पर ही मौत हो गई। साथ में मौजूद युवकों के पास घर तक शव लाने के लिए रुपए नहीं थे। वहां के स्थानीय प्रशासन ने वहीं पर अंतिम संस्कार करने का जोर दिया। इसकी जानकारी मऊगंज के पूर्व विधायक सुखेन्द्र सिंह बन्ना को मिली तो उन्होंने स्वयं के खर्च पर एंबुलेंस की व्यवस्था कराकर मृतक के पार्थिव शरीर के साथ ही अन्य युवकों को घर तक पहुंचाने की व्यवस्था की, जिससे गांव लाकर उसका अंतिम संस्कार किया जा सका।

Shivraj Cabinet : नाम तय, अब हाईकमान से हरी झंडी मिलने का इंतज़ार

Facebook Comments