It was as if LOCKDOWN was over in REWA

REWA में मानो LOCKDOWN खत्म हो गया, कुछ ऐसा था नजारा

रीवा

REWA में मानो LOCKDOWN खत्म हो गया, कुछ ऐसा था नजारा

रीवा (REWA)। लॉकडाउन (LOCKDOWN) में पुलिस की सख्ती बेअसर दिख रही है। लोग घरों से बेधड़क निकल रहे हैं। सड़कों पर चहलकदमी कर रहे हैं। गुरुवार को नजारा कुछ और ही था। लोग भरी धूप में घूमते दिखे। वहीं शाम होते तक तो सड़कों पर भीड़ उमड़ पड़ी। लड़के बाइक में तफरी करने निकल पड़े तो घरों में कैद लोगों ने सड़कों पर ही टहलना शुरू कर दिया। लोगों की यह लापरवाही सेहत पर कहीं भारी ने पड़ जाए।

LOCKDOWN: पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ल की मदद से गुजरात में फंसे लोग आ रहे REWA

ज्ञात हो कि लॉकडाउान (LOCKDOWN) की दूसरी पारी शुरू हो गई है। पीएम ने 19 दिन का लॉकडाउन (LOCKDOWN) लगाने के साथ ही सख्ती के निर्देश दिए हैं। इस आदेश के बाद भी दूसरी पारी में सख्ती का कुछ खास असर नहीं दिख रहा है। लोग अब ज्यादा नियम तोड़ रहे हैं। घरों से निकल कर बाजार में घूम रहे हैं। सड़कों पर टहल रहे हैं। दिन में भी पुलिस ने सभी सड़कों को लॉक कर दिया था, फिर भी हालात ऐसे थे कि कोई रुकने का नाम ही नहीं ले रहा था। पुलिस की बैरिगेटिंग तक हटा दी जा रही थी। बिना पास वाले, बाहर से आने वाले बेधड़क शहर में घुसते दिखे। अब ऐसे में लॉकडाउन (LOCKDOWN) के मायने रीवा (REWA) में न के बराबर ही रह जाते हैं।

21 दिनों तक गायब रहें, अचानक पहुंचे तो Quarantine किए गए SSMC REWA के प्रोफेसर असरफ

बहाने पर बहाना 

सड़कों पर निकले लोगों के पास कोई न कोई बहाना है। कोई नौकरी में जाने की बात कर घूम रहा है, तो कोई अस्पताल जाने का बहाना बना रहा है। हद तो यह है कि इस हालत में लोग परिवार के साथ भी सड़कों पर निकल रहे हैं। पुलिसकर्मी चेक प्वाइंट पर तो मौजूद रही, लेकिन लोगों को समझाने और उन्हें रोकने में असफल नजर आई।

कॉरेक्सी निकले बाहर 

रीवा (REWA) में भले ही खाद्य सामग्री, सजी, दूध की दुकानें बंद हो, लेकिन अवैध शराब, गांजा और कोरेक्स भरपूर बिक रही है। गुटखा और तंबाखू खाने वालें भी सड़कों पर खूब नजर आए। दुकानों की तलाश में लगे रहे। इस भीड़ में सबसे ज्यादा संया युवा वर्ग की रही। लड़कें पुलिस को चमका देकर अड्डे तक पहुंचने में लगे रहे। बोदाबाग में भी कुछ युवक प्वाइंट से बिना जांच के ही निकल गए और सीधे हरिजन बस्ती में गांजा लेने पहुंच गए। उनकी गाड़ी वही रुकी।

Facebook Comments