आशा सिंह का महापौर के रूप में REWA के विकास में महत्वपूर्ण योगदान-RAJENDRA SHUKLA

LOCKDOWN: पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ल दूसरे राज्यों में फंसे लोगों की लगातार कर रहें हैं मदद

रीवा

LOCKDOWN: पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ल की मदद से गुजरात में फंसे लोग आ रहे REWA

रीवा (REWA). रीवा (REWA) के वरिष्ठ साहित्यकार डॉ चंद्रिका प्रसाद चन्द्र परिवार एवं अन्य करीबियों के साथ गुजरात में फंस गए हैं. सोमनाथ मंदिर दर्शन के लिए गए सभी एक महीने से गुजरात में ही फंसे हैं. उन्हें रीवा (REWA) लाने के लिए साहित्यकारों की गुहार पर पूर्व मंत्री ने गुजरात सरकार से मदद मांगी. पूर्व मंत्री का प्रयास काम कर गया. अब सभी फंसे लोग गुजरात से 17 अप्रैल को रवाना होंगे. इसके साथ ही वे दूसरे राज्यों में फंसे लोगों की लगातार मदद भी कर रहें हैं, वे जरूरतमंदों को खाना, राशन से लेकर रहने तक की व्यवस्था करा रहें है. 

मध्यप्रदेश के रीवा में स्थित है दुनिया का एक मात्र ‘महामृत्युंजय मंदिर’, जहां होती है ‘अकाल मृत्यु’ से रक्षा

मिली जानकारी के अनुसार शहर के वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. चंद्रिका प्रसाद चंद्र अपने परिवार एवं अन्य करीबियों के साथ गुजरात के सोमनाथ दर्शन के लिए गए 16 मार्च को गए थे. तभी से वहां पर फंसे हैं. लॉकडाउन (LOCKDOWN) के कारण उनके वापस लौटने के रास्ते बंद हो गए. एक महीने का समय गुजर जाने के बाद इसकी सूचना शहर के साहित्यकारों को हुई . उन्होंने पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ल ा से मदद का आह्वान किया.

INDORE में थर्ड स्टेज का आगमन, 15 मिनट के अंदर दो सराफा व्‍यापारियों की मौत

इस पर श्री शुक्ल ने गुजरात के मुख्यमंत्री से बात की. उन्होंने डॉ. चंद्र को विशेष वाहन से रीवा (REWA) तक पहुंचाने की व्यवस्था की है. 17 अप्रैल को चार लोगों के साथ वे रवाना होंगे. सरकार के इस प्रयास पर शहर के लेखकों ने कृतज्ञता जाहिर की है.

इसमें शिवशंकर त्रिपाठी शिवाला, जगजीवनलाल तिवारी, अमोल बटरोही, गिरीश विंध्यकोकिल, सूर्यमणि शुक्ल , रामनरेश निष्ठुर सहित अन्य ने सरकार और नेताओं के इस प्रयास पर कृतग्यता ज्ञापित किया है. लेखक जयराम शुक्ल ने कहा है कि मुश्किल वक्त में जिस तरह से पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ल ने संवेदनशीलता दिखाई है, समाज के लिए यह बड़ा उदाहरण है. यह ऐसा समय है कि अपने घर से दूर लोगों तक राहत पहुंचाना बड़ा चुनौती भरा काम है.

Facebook Comments