Know why many legislators gathered, including Divya Raj of REWA, KP Tripathi

जानिए ! REWA के दिव्यराज, केपी त्रिपाठी सहित कई विधायक क्यों हुए इकट्ठा

रीवा

जानिए !REWA के दिव्यराज, केपी त्रिपाठी सहित कई विधायक क्यों हुए इकट्ठा

रीवा. जिला स्तरीय संकट प्रबंधन समूह की बैठक मंगलवार को आयोजित की गई। सांसद जनार्दन मिश्र ने कहा कि कोरोना वायरस के नियंत्रण में सभी अपनी भूमिका निभाएं। उन्होंने कहा कि रीवा जिले में अभी तक कोरोना वायरस का कोई भी प्रकरण नहीं आया है। रीवा ग्रीन जोन में है। ग्रीन जोन को जो सहूलियतें मिलनी है वह मिलेंगी। बैठक में विधायक दिव्यराज सिंह ने सर्विलांस पर ध्यान देने देने की बात रखते हुए कहा कि प्रत्येक पंचायत में टीम बनाकर हो रही मृत्यु के कारणों का सूचीकरण किया जाए। गांव-गांव में डॉक्टरों की टीम दूर से कर रही स्क्रीनिंग। सही से जांच करने की आश्वयकता है।

प्रथम चरण में REWA और SHAHDOL ने CORONA को किया परास्त, ख़ुशी की लहर

प्रोटोकाल के तहत किया जा रहा इलाज
अध्यक्षता कर रहे कलेक्टर बसंत कुर्रे ने कहा जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीज नहीं है। सतना से रीवा अस्पताल में शिफ्ट किए दो पॉजिटिव मरीजों का स्वास्थ्य विभाग के प्रोटोकॉल के तहत इलाज किया जा रहा है। स्टाफ के पास पर्याप्त मात्रा में सुरक्षा किट उपलब्ध हैं। जिले में सर्विलांस टीम का गठन किया गया है। सतना के जेल में पदस्थ प्रेहरी के रीवा में रहने वाले परिजनों व उनके यहां दूध देने वाले को कोरेंटाइन कर दिया गया है। इसके अलावा अन्य जानकारी दी है। इस अवसर पर विधायक पंचूलाल प्रजापति, दिव्यराज सिंह, केपी त्रिपाठी, पुलिस अधीक्षक आबिद खान, सीईओ जिला पंचायत अर्पित वर्मा, अपर कलेक्टर इला तिवारी उपस्थित रहे।

CM SHIVRAJ का बड़ा बयान: 10 जिले रेड जोन में, जल्द लागू होगी गाइडलाइन

जांच के लिए 38 सैंपल भेजे, 35 के निगेटिव
अपर कलेक्टर इला तिवारी ने बताया कि अन्य प्रदेशों से लौटे मजदूरों के स्वास्थ्य की जांच करायी गयी है। स्वास्थ्य सुविधा की दृष्टि से 39 वेंटिलेटर्स उपलब्ध हैं। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने जानकारी दी की अभी तक जिले से कोरोना संक्रमण की जांच हेतु 38 सेम्पल भेजे गये जिनमें 35 की रिपोर्ट निगेटिव है।

15 अप्रैल से शुरू होगी तौल
बैठक में कलेक्टर ने बताया कि 15 अप्रैल से प्रारंभ हो रही गेंहू खरीदी के लिए जिले में 104 केन्द्र बनाये गये हैं। प्रत्येक केन्द्र में 400 से लेकर 500 किसान अपनी उपज बेंचने पहुंचेंगे। इस प्रकार औसतन एक दिन में 10 से 15 किसान गेंहू बेंचने की व्यवस्था की गई है।

Facebook Comments