These special TRAINs will reach the people of REWA and SATNA trapped in INDORE.

REWA से चलने वाली TRAIN को लेकर आई बड़ी खबर, बुक हुई टिकट..

रीवा

REWA से चलने वाली TRAIN को लेकर आई बड़ी खबर, बुक हुई टिकट..

REWA रेलवे स्टेशन से ट्रेन संचालन को लेकर अब भी संशय कायम है। इस बीच लोगों ने भोपाल, दिल्ली व अन्य जगहों पर यात्रा करने टिकट आरक्षित करा लिये हैं। परंतु अब REWA स्टेशन से TRAIN का संचालन होना मुश्किल लग रहा है। ऐसे में आरक्षित टिकट को रद्द कराने की झंझट में एक बार फिर यात्री फसेंगे। गौरतलब है कि 22 मार्च से देशभर में सभी यात्री TRAIN का संचालन बंद है। इस क्रम में REWA स्टेशन से चलने वाली सभी 11 TRAIN के पहिये भी थमे हुए हैं।

अपने नाम के शुरू हो रहे पहले अक्षर से जाने अपना स्वभाव और राज

रेल प्रशासन ने जब TRAIN संचालन पर पहले 31 मार्च, फिर बढ़ाकर 14 अप्रैल तक के लिए रोक लगाने के आदेश जारी किए थे। इस दरमियान विगत 22 मार्च से लेकर 14 अप्रैल जितनी टिकट आरक्षित रहीं, उन्हें यात्रियों द्वारा निरस्त कराया गया। उस समय भी रेल प्रशासन ने ऑनलाइन टिकट निरस्त व खाते में पैसा भेजने की व्यवस्था यात्रियों को आखिर में दे दी थी। अब अगर दोबारा टिकट निरस्त कराने की स्थिति बनती है तो रेलवे फिर यही सुविधा यात्रियों को देगा। जिसमें यात्री ऑनलाइन टिकट निरस्त कराकर रिफंड प्राप्त कर सकेंगे। रिफंड प्राप्त करने यात्रियों को तीन महीने तक का समय दिया जाने की बात पहले ही रेलवे कह चुका है।

14 अप्रैल से 1 महीने के लिए बदल जाएगी इन राशियों का भाग्य, पढ़िए

TRAIN में बढ़ी आरक्षित टिकट संख्या

उल्लेखनीय है कि वैवाहिक सीजन की शुरुआत 14 अप्रैल से होनी है, जिसके चलते आनंद विहार TRAIN के स्लीपर कोच में वेटिंग संया 16 अपे्रल को 100 के पार हो चुकी है। वहीं, रेवांचल सुपरफास्ट TRAIN के स्लीपर कोच में भी 15 अप्रैल के बाद वेटिंग 50 से अधिक है। REWA आने वाली साप्ताहिक महामना ट्रेन में वेटिंग संया अन्य TRAIN की तुलना में अधिक है।

सौगात : राशन फ्री देने के बाद CM SHIVRAJ देंगे 1 करोड़ परिवार को ये फ्री….

बड़ोदरा से चलने वाली TRAIN के स्लीपर में 18 अप्रैल को 180 वेटिंग पहुंच चुकी है। ऐसे ही 25 अप्रैल को 176 व 2 मई को महामना TRAIN के स्लीपर कोच में 142 वेटिंग है। इसी प्रकार साप्ताहिक राजकोट TRAIN की स्थिति भी कुछ ठीक है। राजकोट से 19 अप्रैल को आने वाली ट्रेन के स्लीपर कोच में 102 वेटिंग और 26 अप्रैल को 109 वेटिंग है। REWA-इंदौर TRAIN व साप्ताहिक नागपुर ट्रेन का भी लगभग यही हाल है। अब इन सभी आरक्षित टिकट के निरस्त होने की आशंका प्रबल होने लगी है।

रेलकर्मियों को लेकर REWA पहुंची स्पेशल TRAIN

रेलवे द्वारा REWA से सतना के बीच वर्कमैन स्पेशल TRAIN का संचालन मंगलवार से प्रारम्भ किया गया। यह ट्रेन रेल कर्मचारियों के लिए अब 30 अप्रैल तक सेवा देती रहेगी। पश्चिम मध्य रेलवे ने रेल कर्मचारियों की समस्याओं को देखते हुए यह निर्णय लिया है। REWA-सतना के अलावा यह वर्कमैन स्पेशल TRAIN इटारसी, सिंगरौली व जबलपुर के बीच भी चलेगी। इस स्पेशल TRAIN में केवल रेल कर्मचारियों के लिए एक-एक बोगी रहेगी।

कर्मचारी अब इस स्पेशल TRAIN का लाभ लेंगे 

आवश्यक सेवा में लगे लोको पायलट, गार्ड, गैंगमैन, कीमैन जैसे रेल कर्मचारी अब इस स्पेशल TRAIN का लाभ कार्यालय तक पहुंचने के लिए ले सकेंगे। गौरतलब है कि विगत 22 मार्च से सभी यात्री TRAINोंका संचालन पूरी तरह बंद है। वहीं, कोरोना महामारी से बचने 25 मार्च से देशव्यापी लॉकडाउन चल रहा है, जो अभी 14 अप्रैल तक है। इस लॉकडाउन के चलते अन्य परिवहन सुविधा बस, ऑटो वगैरह सब बंद है। ऐसे में आवश्यक रेल सेवा में लगे रेलकर्मियों को अपने मुयालय तक पहुंचने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता रहा।

रेलवे के इंजीनियरिंग विभाग की मांग पर रेल प्रशासन ने रेल कर्मियों को इस प्रकार राहत देने का प्रयास किया है। बता दें कि देश व्यापी लॉकडाउन की अवधि बढऩे वाली है। अनुमान जताया जा रहा है कि अब 30 अप्रैल तक लॉकडाउन रहेगा। इस लिहाज से ही रेल प्रशासन ने REWA-सतना के बीच वर्कमैन स्पेशल TRAIN आगामी 30 अप्रैल तक चलाने का फैसला किया है।

कल आखिरी फेरा लगाएगी पार्सल TRAIN इसके अतिरिक्त रेल प्रशासन द्वारा पार्सल एसप्रेस TRAIN भी REWA स्टेशन से चलाई जा रही है। आगामी गुरूवार 15 अप्रैल को यह TRAIN अपना अंतिम फेरा लगायेगी। चूंकि इन 15 दिनों में पार्सल TRAIN को पर्याप्त बुकिंग नहीं मिली। लिहाजा अब पार्सल TRAIN को आगे और चलाने के मूड में रेल प्रशासन नहीं है।

उल्लेखनीय है कि राज्य शासन की मांग पर रेल प्रशासन ने दो पार्सल एसप्रेस ट्रेन REWA से चलाई थी। विगत 1 अप्रैल से अनूपपुर के लिए यह TRAIN निरंतर दौड़ती रही। इसी प्रकार 2 अप्रैल से सिंगरौली के लिए पार्सल एसप्रेस TRAIN का संचालन होता रहा।

Facebook Comments