Big news about POLICE in MP will not be arbitrary, read

CORONAVIRUS से नहीं इन्हे REWA में POLICE के डंडो का भय, पढ़िए

रीवा

CORONAVIRUS से नहीं इन्हे REWA में POLICE के डंडो का भय, पढ़िए

रीवा। नगर निगम के सफाई कामगारों को कोरोना से ज्यादा स्थानीय POLICE प्रशासन का खतरा है, कोरोना के डर से अधिक POLICE के डंडो का भय उनमें साफ दिख रहा है। कर्मचारियों को POLICE कर्मियों द्वारा रोका तो जा ही रहा है इसके अलावा उनके साथ मारपीट भी की जा रही है।

पूर्व में निगम की पीएचई शाखा के कर्मचारी के साथ मारपीट कर हाथ तोड़ दिया गया था जिसके बाद निगम अधिकारियों ने पास देने की बात तो कही लेकिन इस पर अमल नहीं किया गया। कुछ कर्मचारियों को पास देकर अधिकारी मार्केट बंद होने का बहाना लगाकर बैठ गए। हालात यह है कि अब सफाई कर्मचारियों को ठंडे खाने पड़ रहे है।

लॉकडाउन ने खोल दी पोल, पराए मर्द से अश्लील बातें करती पकड़ी गई पत्नी

बताया गया कि रोजाना ही POLICE कर्मियों द्वारा सफाई कामगारों को रोक लिया जाता है, कई बार तो POLICE कर्मी पूछने के पहले ही पीटना शुरु कर देते है। कई कर्मचारियों के साथ मारपीट की घटनाए प्रकाश में आ चुकी है। वहीं सफाई कर्मचारी नेता साधूराम सिगोते ने बताया कि निगम प्रशासन द्वारा किसी प्रकार का पास न दिए जाने से ऐसी समस्या खड़ी हो रही है, कर्मचारी रोजाना ही POLICE द्वारा परेशान किए जाने की शिकायत करते है, महिला कर्मचारी भी परेशान हो रही है।

स्वास्थ्य अधिकारी को पास के लिए बोला गया लेकिन वह ध्यान नहीं दे रहे है। भय के मारे कई बार तो कर्मचारी काम पर आने से भी मना कर देते है। इसलिए POLICE प्रशासन को कर्मचारियों के प्रति दिखाई जा रही सती तो कम करना चाहिए।

हाल ही में सफाई कर्मचारी रिंकू द्वारिका व सोनू मुन्ना को पास नहीं होने से POLICE द्वारा रानी तालाब के समीप डंडो से पीटा गया। महिलाओं को सबसे अधिक समस्या होती है। पहले कर्मचारियों से पूछताछ कर ली जाए यदि वह निगम कर्मचारी अपने आप को बता रहे है और POLICE कर्मियों को भरोसा नहीं तो वह संबंधित अधिकारी से पूछताछ कर सकते हैं, लेकिन उन्हें मारना पूरी तरह से गलत है। कर्मचारी संगठन POLICE प्रशासन द्वारा की जा रही मारपीट व अभद्र व्यवहार का पूरा विरोध करता है।

Facebook Comments