रीवा में कलेक्टर के आदेश की अव्हेलना, दुकानदार नहीं कर रहें सामानों की होम डिलीवरी, हेल्पलाइन नंबर जारी करने की मांग

Rewa
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

रीवा। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन की अवधि बढ़ाकर 14 अप्रेल तक कर दी गई है। कुछ हद तक लोगों ने अपनी व्यवस्थाएं की हैं लेकिन अधिकांश लोग ऐसे हैं जो महज सप्ताह भर का ही इंतजाम कर पाए हैं। ऐसे में उन्हें आने वाले दिनों में जरूरत की सामग्री को लेकर संकट उत्पन्न हो सकता है। हालांकि लॉकडाउन के दौरान रोजमर्रा की जरूरतों को छूट दी गई है। शहर के अधिकांश हिस्सों में किराना, सब्जी, दूध, दवाएं, राशन आदि की दुकानें खुली हैं। कोरोना संक्रमण की शुरुआत चीन से हुई लेकिन वहां पर सबसे पहले लॉकडाउन कर लोगों के घरों तक सामग्री पहुंचाने के इंतजाम किए गए। उसी तर्ज पर अब रीवा में भी मांग उठने लगी है कि उनके घरों तक सुविधाएं पहुंचें तो उन्हें बाहर निकलना नहीं पड़े।

होम डिलीवरी के लिए रीवा कलेक्टर ने दुकानदारों को निर्देश भी जारी किया है की वे जरूरत के सामानों की होम डिलीवरी कराएं, परन्तु दुकानदार ये सुविधा उपलब्ध करा पाने में असमर्थ दिखाई दे रहें है. हालात ऐसे है की किराना की दुकानों से लेकर रोजमर्रा की जरूरतों की दुकानों पर भीड़ एकत्रित हो जाती है. जिससे कोरोना के संक्रमण का ख़तरा बढ़ रहा है. 

हेल्पलाइन नंबर की जरूरत

प्रशासन ने कोरोना संक्रमण की जांच के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया है, जिसमें कई अधिकारियों के मोबाइल नंबर भी दिए गए हैं। इसी तरह रोजमर्रा की वस्तुओं की सप्लाई के लिए भी हेल्पलाइन नंबर जारी करने की मांग उठाई जा रही है, ताकि लोग सूचनाएं दे सकें।

दुकानदारों को होम डिलवरी करने के निर्देश

कलेक्टर ने एक आदेश जारी करते हुए आवश्यक जरूरतों से जुड़ी सामग्री की होमडिलवरी करने के लिए कहा है। सामग्री घर पहुंचाने वालों का पास जिला पंचायत एवं संबंधित एसडीएम कार्यालय से बनाए जा रहे हैं। खाद्य सामग्री का उत्पादन करने वाले उद्योग चलते रहेंगे। वर्कर्स को एक ही स्थान पर रुकने और हर आधे घंटे में सेनिटाइजर का उपयोग करने के लिए कहा गया है। आटा चक्की चालू रखने के लिए कहा गया है, जिसमें टोकन व्यवस्था होगी ताकि अधिक संख्या में लोग एक साथ नहीं जुटें। फल, सब्जी, दूध, अनाज आदि की आवाजाही जारी रखने के लिए कहा गया है। लोगों ने प्रशासन से होम डिलवरी की सुविधा देने की मांग उठाई है।

Facebook Comments