BIG NEWS : REWA में भी 144 धारा लागू, 3 दिन बंद रहेगा बाजार, अनावश्यक निकलने वालो को किया जायेगा गिरफ्तार, वाहनों की जांच शुरू

रीवा

रीवा. जिले में कोरोना के बचाव को लेकर अलर्ट जारी है। जिला प्रशासन ने बचाव को लेकर राजस्व कोर्ट में अर्जेंट प्रकरणों को छोड़ सामान्य राजस्व प्रकरणों की पेशी दस दिन तक बढ़ा दी गई। शुक्रवार को कलेक्ट्रेट भवन का मुख्यद्वार भी बंद कर दिया। अर्जेंट लोगों को ही प्रवेश मिला। कार्यालयों में भीड़ कम करने के लिए जरुरतमंद लोगों को ही प्रवेश दिया जाएगा। कलेक्टर ने एमपी-यूपी सीमा पर बाहर बसों के आने पर सील कर दिया है। अस्पतालों में ओपीडी से लेकर वार्ड में मरीजों के साथ एक व्यक्ति को ही अनुमति दी गई है।

अलर्ट मोड पर प्रशासन, बचाव को लेकर जागरुकता
जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी है। कलेक्टर बसंत कुर्रे ने बताया कि बचाव के जागरुकता अभियान जारी है। आश्यकता नहीं हो तो लोग भीड़ में जाने से बचें। अभी तक कोरोना के एक भी रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं है। बाहर से आ रहे लोगों पर नजर है। उधर, शुक्रवार को कलेक्ट्रेट भवन का मुख्य प्रवेशद्वार को भी बंद कर दिया गया। अर्जेंट लोगों को ही प्रवेश दिया गया। कलेक्ट्रेट भवन में ज्यादातर विभागों के कर्मचारी, अधिकारियों की कुर्सियां खाली रहीं। जिले के ज्यादातर सरकारी दफ्तरों में जरुरतमंद लोगों को ही प्रवेश दिया गया।

कलेक्टर ने गठित की टीम, दिल्ली-भोपाल से आने वाले वाहनों की जांच
कलेक्टर ने स्वास्थ्य विभाग की टीम गठित कर बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन पर दिल्ली-भोपाल से आने वाली आनंद विहार व रेवांचल टे्रनों और बस स्टैंडों पर यात्रियों की स्क्रीनिंग की टीम गठित की गई है। उधर, कमिश्नर डॉ अशोक कुमार भार्गव ने रीवा, सीधी, सिंगरौली और सतना के कलेक्टर्स को पत्र जारी कर कहा है कि कार्यालय में कर्मचारियों के आने-जाने का शेड्यूल निर्धारित करें। आश्यकतानुसार ही कर्मचारियों को कार्यालय में रखा जाए। बुजुर्ग कर्मचारियों का विशेष ध्यान रखा जाए। उधर, शहर में बस स्टैंड पर शुक्रवार को सन्नाटा पसरा रहा। पुराने बस स्टैंड पर ज्यादातर दुकानें बंद हो गई हैं।

जिला समेत 5 अस्पतालों में बनाए आइसोलेशन वार्ड, वेंटीलेटर के 6 वेड
संक्रमित टीम के नोडल अधिकारी डॉ. अक्षय श्रीवास्तव के अनुसार पुलिस, चिकित्सक व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित किया जा रहा। जिला अस्पताल में सूचनाएं एकत्रित करने के लिए हेल्पलाइन चालू कर दी गई। नोडल अधिकारी ने बताया कि विदेश से आने की सूचना पर आरएन द्विवेदी का स्वास्थ्य चेकअप कराया गया। अभी तक किए गए परीक्षण में एक भी पॉजिटिव नहीं है। कुछ सेंपल अभी पुणे से नहीं आए हैं। जिला अस्पताल में 10 बेड, डिहिया में 12 बेड के अलावा विंध्य व रीवा अस्पताल में दो-दो बेड आरक्षित किए गए हैं। नोडल अधिकारी ने बताया कि जिले के मऊगंज सहित सीमावर्ती क्षेत्र के एक्सीलेंस अस्पतालों में भी आईवार्ड में दो-दो बेड की व्यवस्था की गई है।

एसजीएमएच सहित अस्पतालों में मरीज के साथ एक व्यक्ति की अनुमति
विंध्य के सबसे बड़े हॉस्पिटल एसजीएमएच में 1200 से अधिक बेड पर मरीजों का इलाज चल रहा है। अधीक्षक डॉ. पीके लखटकिया ने बताया कि ओपीडी से लेकर वार्ड तक भीड़ कम करने के लिए एक मरीज के साथ एक व्यक्ति को रहने की अनुमति है। नोडल अधिकारी ने बताया कि इसी तरह जिले के सभी अस्प्तालों में निर्देश दिए गए हैं। सरकारी गैर सरकारी अस्प्तालों में चिकित्सक, मरीज व तीमारदारों को मास्क, सिनिटाइजर के उपयोग बढ़ा दिया गया है। एसजीएमएच के नोडल अधिकारी डॉ मनोज इंदुलकर ने बताया कि एसजीएमएच में आइसोलेशन वार्ड में 10 बेड, वेंटीलेटर के लिए छह बेड लगाए गए हैं। अभी तक एक भी मरीज नहीं मिला है।

Facebook Comments