VIP ड्यूटी में जाते वक़्त दुर्घटना का शिकार हुई रीवा की बेटी ने अस्पताल में तोड़ा दम, आईजी-डीआईजी ने दी सलामी

मध्यप्रदेश रीवा सतना

रीवा. एक दिन पूर्व हादसे में मृत महिला आरक्षक का पार्थिव शरीर शुक्रवार को गृहग्राम पहुंचा जहां नम आंखों से लोगों ने गांव की लाड़ली को अंतिम विदाई दी। दोपहर पार्थिव शरीर गृहग्राम आया था, जहां उसे अंतिम दर्शनों के लिए रखा गया था। पार्थिव शरीर के साथ सतना से सूबेदार अमरीश साहू के नेतृत्व में बल आया था। पार्थिव शरीर जैसे ही गृहग्राम पहुंचा तो लोगों की आंखे नम हो गई। सांयकाल आईजी उमेश जोगा, डीआईजी अविनाश शर्मा, एसपी सुशांत सक्सेना, एएसपी शिवकुमार सिंह, आरआई जेपी आर्या सहित पुलिस विभाग के तमाम अधिकारियों ने पुष्पगुच्छ अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इस दौरान स्टॉफ ने गार्ड आफ आनर दिया। पूरा गांव लाड़ली को अंतिम विदाई देने के लिए उमड़ पड़ा।

वीआईपी ड्यूटी लगी हुई थी सतना
विभा द्विवेदी हनुमना थाने के ढाबा गांव की रहने वाली थी और 2017 बैच में उसका चयन पुलिस विभाग में आरक्षक के पद पर हुआ था।उक्त महिला आरक्षक की सतना में वीआईपी ड्यूटी लगी हुई थी। चित्रकूट से बस छूट जाने पर आरक्षक ट्रेन से सतना जा रही थी। प्लेटफार्म मेंं ट्रेन से गिरकर वे घायल हो गई थी जिनकी अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई थी। उधर क्षेत्रीय विधायक सुखेन्द्र सिंह बन्ना ने भी महिला आरक्षक की मौत पर गहरी संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि आरक्षक सीएम ड्यूटी में थी लेकिन सीएम के पास संवेदना व्यक्त करने तक का समय नहीं था।

कठिन मेहनत कर हासिल किया था मुकाम
विभा द्विवेदी ने कठिन मेहनत करके यह मुकाम हासिल किया था। उनकी पुलिस में जाने की इच्छा था जिसके लिए उन्होंने पूरी ईमानदारी से मेहनत की और वर्ष 2017 बैच में उनका चयन हो गया। पुलिस विभाग की ट्रेनिंग करने के बाद तीन माह पूर्व उन्होंने सतना में ज्वाइन किया था। उनकी एक छोटी बहन व भाई भी हैं। बेटी के निधन से पूरा परिवार गहरे सदमे में है।