रीवा : पिता की डांट से नाराज होकर घर से भागी बेटी ने उठाया खौफनाक कदम, सारे जगह खींच गया सनाका

रीवा

रीवा. पिता की डांट से नाराज होकर घर से भागी बेटी ने ऐसा खौफनाक कदम उठाया कि उसकी हालत देख परिजनों की आंखें फटी रह गई। परिजन उसके इस अंजाम को देख कर खुद को दोषी मान रहे हैं। महिला बाल विकास विभाग द्वारा संचालित वन स्टाप सेंटर में मंगलवार रात किशोरी फांसी पर झूल गई। घटना से पूरे कार्यालय में सनाका खिंचा हुआ है। किशोरी मंगलवार शाम में को सेंटर में आई थी। पुलिस ने घटना का निरीक्षण कर जांच शुरू कर दी है।

एक दिन भी नहीं रही
समान थाना क्षेत्र के बजरंग नगर मोहल्ले में वन स्टाप सेंटर संचालित है। इसमें हिंसा से पीडि़त महिलाओं को कुछ दिन रखकर चिकित्सा, कानूनी और मानसिक सहायता मुहैया कराने कराई जाती है। यहां तेंदू रोड शहडोल की 16 वर्षीय किशोरी मंगलवार शाम को ही आई थी। रात में खाना खाकर किशोरी कमरे में सोने चली गई थी। देर रात किशोरी ने कमरे के अंदर ही फांसी लगा ली। घटना की जानकारी सुबह कर्मचारियों को हुई। जब वे कमरे में गए तो शव लटकता देखकर होश उड़ गए। कार्यालय अधीक्षक ने घटना की सूचना समान पुलिस को दी। पुलिस के साथ सीन आफ क्राइम यूनिट के वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी डॉ. आरपी शुक्ला ने भी टीम के साथ घटनास्थल का निरीक्षण किया। पुलिस ने पूरे कमरे की तलाशी ली लेकिन कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। सूचना पर दोपहर में किशोरी के परिजन भी रीवा पहुंच गए। बाद में पुलिस ने किशोरी के शव को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भिजवा दिया। उसने किन कारणों के चलते यह आत्मघाती कदम उठाया है इसका अभी तक पता नहीं चल पाया है।

पिता की डांट से नाराज होकर घर से भागी थी
किशोरी मंगलवार को ही वन स्टाप सेंटर आई थी। उक्त किशोरी मोबाइल पर किसी लड़के से बात करती थी जिसके बारे में घर वालों को पता चल गया था। माता-पिता ने उसको काफी डांटा था जिससे उसका झगड़ा भी हुआ था। डांट से नाराज होकर किशोरी घर से भाग आई थी। पुलिस की सूचना पर जब घर वाले आए तो सारा मामला सामने आ गया।

ऑटो चालक ने पहुंचाया था चाइल्ड लाइन
मंगलवार को किशोरी घर के सामने से बस में सवार हो गई थी। बस से वह सीधे रीवा आ गई और न्यू बस स्टैंड में उतरने के बाद ऑटो में सवार हुई थी। ऑटो चालक को उसकी गतिविधियां संदिग्ध लगी थी जिस पर उसने किशोरी को चाइल्ड लाइन पहुंचा दिया। दिनभर उसे कार्यालय में रखने के बाद चाइल्ड लाइन के कर्मचारियों ने शाम को उसे वन स्टाप सेंटर पहुंचा दिया। वहां रात 11 बजे उसने खाना खाया और कमरे में सो गई। रात में कितने बजे फांसी लगा ली इसका पता नहीं चला।