REWA: एजी कॉलेज प्रबंधन ने लाखों की लकड़ी हजारों में बेची..

आर्मी की भर्ती में सलेक्ट होने REWA के लालबहादुर ने हेयर डाई से बनाया गाल में तिल, फिर हुआ ये…

रीवा

दिल्ली में हलवाई की दुकान में काम करते वक्त उसकी रीवा निवासी लालबहादुर प्रजापति (19) से दोस्ती हुई थी। लालबहादुर ने उसे बताया था कि अमरकंटक में कुछ दिन पहले आर्मी की भर्ती रैली में उसे सिलेक्ट कर स्वास्थ्य परीक्षण के लिए चयन हो गया था। लेकिन शारीरिक दक्षता परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद भर्ती स्थल पर मेडिकल चैकअप में उसके बाएं हाथ की एक अंगुली को टेढ़ी बताकर उसे फिर से परीक्षण के लिए जबलपुर में परीक्षण कराने को कहा है। जिसकी परीक्षण 25 फरवरी को होना है। यदि तू मेरी दोस्ती के नाते मदद करें, तो मेरी जगह दूसरी बार होने वाले स्वास्थ्य परीक्षण में चले जाओ। इसके लिए मैं तुझे 20 हजार रुपए भी दूंगा। यह जानकारी मिलिट्री स्वास्थ्य परीक्षण में दूसरे युवक की जगह मेडिकल परीक्षण में पहुंचे धोखाधड़ी के आरोपित आगरा निवासी प्रीतम सिंह (20) ने कैंट पुलिस को पूछताछ में दी।

अनफिट की थी आशंकाः

आरोपित लालबहादुर को आशंका थी कि सैन्य अस्पताल जबलपुर में भी वह अनफिट हो सकता है। उसने साथी प्रीतम को उसकी जगह मेडिकल बोर्ड के समक्ष उपस्थित होने तैयार तो कर लिया था। लेकिन उसे यह भी पता था कि बायोमैट्रिक टेस्ट में शरीर के पूरी निशान देखे जाते है। आरोपित लालबहादुर ने अपने गाल के जैसा तिल प्रीतम के गाल में भी बनाया। इसके लिए एक पतली लकड़ी और हेयर डाई का इस्तेमाल किया। वहीं आरोपित ने पहले खुद जाकर 17 फरवरी को निशान दिए थे। परीक्षा में जब दूसरा आरोपित प्रीतम पहुंचा तो शरीर के हर उस स्थान में निशान मिले, जो लालबहादुर को थे। लेकिन उसकी अंगुली में कोई खराबी नहीं मिली। जिससे मिलिट्री अस्पताल के डॉक्टर को संदेह हुआ और उन्होंने फिर से पूरी तरह से जांच की। जिसमें पूरी सच्चाई सामने आ गई।

आरोपित प्रीतम भी दो बार हो चुका अनफिटः

पुलिस ने बताया कि आरोपित प्रीतम ने भी कुछ साल पहले दो बार मिलिट्री में भर्ती होने के लिए परीक्षा दी थी। लेकिन स्वास्थ्य परीक्षण में वह दोनों बार अनफिट हो चुका है। आरोपित लालबहादुर की तलाश के लिए दबिश दी जा रही है।

………….

आरोपित से कई महत्वपूर्ण जानकारियां मिली है। मुख्य आरोपित को गिरफ्तार करने के लिए टीम को रीवा और दिल्ली रवाना किया जा रहा है।

विजय तिवारी, कैंट टीआई

Facebook Comments