रीवा: ट्रेन के सामने कूदकर ASI ने दी जान

Rewa
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

रीवा। रेलवे स्टेशन में सुबह पटरी में शव देखे जाने के बाद सनसनी फैल गई। शव देखते ही आनन-फानन में रेलवे कर्मचारियों ने जीआरपी को सूचना दी। मौके पर पहुंची जीआरपी ने स्थानीय पुलिस को सूचना देकर पंचनामा कार्यवाही करते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल पहुंचाया। शव की शिनात भोपाल में पदस्थ एएसआई के रूप में हुई है। एएसआई ने रीवा-चिरमिरी ट्रेन के सामने कूदकर आत्महत्या की है। घटना रविवार सुबह 6 बजे की बतायी गई है। पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।

जानकारी के अनुसार रेलवे स्टेशन के आउटर में रविवार सुबह करीब 6 बजे रेलवे कर्मचारियों ने एक अधेड़ का शव पड़ा हुआ देखा। घटना की सूचना तत्काल जीआरपी को दी गई। मौके पर पहुंची जीआरपी ने चोरहटा थाना पुलिस को बुलाया और घटनास्थल का निरीक्षण किया। इस दौरान पता चला कि अधेड़ की मौत रीवा-चिरमिरी ट्रेन से कटकर हुई है। ट्रेन जब यात्रियों को उतारने के बाद यार्ड की तरफ जा रही थी, उसके बाद उसका शव रेलवे ट्रैक में मिला। पुलिस ने शव की पहचान भोपाल के खजुरी थाना में पदस्थ सहायक उपनिरीक्षक अनिल शुल पुत्र लल्लू शुला 45 वर्ष निवासी हिरौल थाना बिछिया के रूप में की है।

घटना की सूचना तत्काल मृतक के परिजनों को दी गई और परिजनों के पहुंचने पर शव को पोस्टमार्टम के लिए संजय गांधी अस्पताल की मर्चुरी में भेजा गया। यहां पीएम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। अब जीआरपी मर्ग कायम कर घटना की जांच कर रही है। इसमें चोरहटा पुलिस का भी सहयोग लिया जा रहा है।

एक सप्ताह पहले आया था छुट्टी में :
बताया जाता है कि एएसआई अनिल शुल भोपाल के खजुरी थाना में पदस्थ थे। पिछले 1 सप्ताह से वह गृह जिला रीवा में थे। इस बीच वह अपने गृहग्राम हिरौल मे रहने के बाद बोदाबाग स्थित अपनी ससुराल और समान थाना क्षेत्र में रहने वाले जीजा सुरेश मिश्रा के घर भी गए। फिलहाल वह जीजा के यहां ही थे और रविवार सुबह अपने जीजा सुरेश मिश्रा से टहलने जाने की बात कहकर घर से निकले थे। कुछ समय बाद ही उनका शव मिलने की सूचना पहुंच गई। पुलिस का कहना है कि परिजन अभी कुछ भी बता पाने की स्थिति में नहीं है।

पारिवारिक विवाद माना जा रहा आत्महत्या का कारण
परिवार से जुड़े लोगों ने बताया कि एएसआई अनिल का परिवार के लोगों से जमीनी विवाद चल रहा था, जिससे वह काफी परेशान थे। विवाद के कारण ही उन्हें असर रीवा आना पड़ता था। कई बार उन्होंने विवाद को सुलझाने का प्रयास भी किया, लेकिन परिवार के लोग नहीं माने। ऐसे में वह मानसिक रूप से परेशान थे। शायद यही वजह है कि उन्होंने ट्रेन के सामने कूदकर मौत को गले लगा लिया। वहीं दूसरी तरफ डिप्रेशन की बात भी सामने आ रही है। बताया जाता है कि रीवा में डॉटर मनोज इंदुलकर के यहां उनका उपचार चल रहा था। हालांकि घटना की मुख्य वजह जांच और पारिवारिक बयान के बाद ही सामने आ पाएगी।

Facebook Comments