हाईएलर्ट : रीवा में इस गिरोह ने दी दस्तक, बड़े वारदात को दे सकते है अंजाम, बच कर रहे

रीवा

बड़े ही शातिराना ढंग से लूटपाट की वारदात को अंजाम देने वाले कुख्यात कंजर गिरोह की जिले में दस्तक मिलते ही पुलिस हाई अलर्ट हो गई है। पुलिस अधिकारियों के निर्देशन में शहर सहित जिले भर की पुलिस द्वारा अपने-अपने क्षेत्र के बैंकों में आने-जाने वाले लोगों पर नजर रखते हुये नाकेबंदी कर कंजर गिरोह को पकडऩे की जुगत की जा रही है।

मंगलवार की सुबह से ही जिलेभर की पुलिस बैंकों के इर्द-गिर्द व हाइवे में नाकेबंदी कर रखी थी, लेकिन कंजर गिरोह का कोई भी सदस्य पुलिस के हाथ नहीं लगा। मंगलवार को पुलिस अधिकारियों को सूचना मिली थी कि लूटपाट सहित जघन्य वारदातों को अंजाम देने वाले कंजर गिरोह के चार सदस्य दो अलग-अलग बाइकों से जिले में प्रवेश कर चुके हैं। इस सूचना के बाद पुलिस अधिकारियों ने जिले भर की पुलिस को अलर्ट करते हुये अपने-अपने क्षेत्र में संचालित बैंकों में कड़ी नजर रखने, संदेहियों से पूछताछ व नाकेबंदी कर सघन वाहन चेकिंग किये जाने का निर्देश दिया था। पुलिस अधिकारियों के निर्देश पर शहर सहित जिले भर के थानों की पुलिस ने बैंकों के आसपास चक्कर काटते हुये संदेहियों से पूछताछ करते हुये सघन वाहन चेकिंग में जुटी रही, लेकिन देर शाम तक पुलिस के हाथ गिरोह का कोई सुराग नहीं मिला। दिनभर दौड़ती रहीं पुलिस टीमें जिले में कंजर गिरोह की दस्तक मिलते ही पुलिस की अलग-अलग टीमें दिनभर दौड़ती नजर आईं।

गिरोह को पकडऩे के लिये बनाई गई रणनीति के मुताबिक कुछ पुलिसकर्मियों को सिविल ड्रेस में बैंक के आसपास तैनात किया गया था जबकि पीसीआर, एफआरबी सहित थाना प्रभारी, नगर पुलिस अधीक्षक अपनी टीम के साथ दिनभर नजर बनाए रखे। कैश लूटने में माहिर है गिरोह गौरतलब है कि कंजर गिरोह एक ऐसा गिरोह है, जिसके द्वारा अधिकतर कैश लूटे जाते हैं। जिसके लिये गिरोह की नजर असर बैंक से बड़ी रकम निकालने वाले लोगों पर रहती थी। गिरोह के सदस्य बैंक में रैकी करने के बाद अन्य सदस्यों की मदद से बड़े ही शातिराना ढंग से लूटपाट की वारदात को अंजाम देता है। बताया जाता है कि गिरोह लूट की घटना के दौरान कई बार हत्या की वारदात को भी अंजाम देने में नहीं कतराता। जिले में विगत कई वर्षों से हो रही बड़ी लूट की घटनाओं में कंजर गिरोह का हाथ होना पाया गया है, लेकिन पुलिस गिरोह को पकडऩे में लगातार नाकाम होती रही। मंगलवार को मिली सूचना के बाद पुलिस यह मौका कतई नहीं गवाना चाहती थी।