LOCKDOWN's bloody clash between the two sides in REWA, Goliya Chali and ....

प्रेम प्रसंग में बाधा बन रहा था पति, इसलिए कर दी हत्या : REWA NEWS

रीवा

विगत 3 माह पहले रिटायर्ड फौजी की हुई अंधी हत्या की पुलिस ने गुत्थी सुलझाते हुए हत्या की साजिश में शामिल मृतक की पत्नी और उसके दो साथियों को गिरतार कर लिया है। पकड़े गए तीनों आरोपियों ने हत्या करने की बात कबूल कर ली है। जिन्हें पूछताछ के बाद न्यायालय में पेश किया गया, जहां जमानत न मिलने के चलते पुलिस अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया है। घटना लौर थाना क्षेत्र नंदा तालाब के राष्ट्रीय राजमार्ग 35 में घटित हुई थी। जानकारी के अनुसार दल बहादुर सिंह पिता जय भान सिंह निवासी विछरहटा थाना शाहपुर का 7 नवंबर 19 को नंदा तालाब के पास राष्ट्रीय राजमार्ग 135 थाना लौर के किनारे शव मिला था ।पुलिस पहले सड़क दुर्घटना मान रही थी। मृतक के परिवार के लोगों के द्वारा की गई शिकायत और मिले साक्ष्यों के आधार पर हत्या का मामला दर्ज किया गया था।

पुलिस हत्या का मामला दर्ज कर जुड़े साक्ष्यों को एकत्र कर मृतक की पत्नी सुधा सिंह, सुनील सिंह निवासी दुअरा थाना मऊगंज के साथ आशीष सिंह निवासी करारिया थाना सिरमौर को गिरतार कर न्यायालय में पेश कर दिया जहां से जेल भेज दिया गया है। बताया जाता है कि मृतक दल बहादुर सिंह की पत्नी सुधा सिंह का गांव के ही सुनील सिंह के नाजायज संबंध थे, जिसके चलते सुधा सिंह ने कई बार दल बहादुर सिंह के खिलाफ थाने में शिकायत की थी और मारपीट का मामला दर्ज कराया था। इतना ही नहीं सुधा सिंह पति की गैर मौजूदगी में प्रेमी सुनील सिंह के साथ रीवा में भी रहने लगी थी। पारिवारिक दबाव के बाद पति पत्नी के बीच समझौता हो गया था और दल बहादुर सिंह सेना की नौकरी छोड़कर घर आ गया था । लेकिन सुधा सिंह और सुनील सिंह के बीच चल रहा प्रेम प्रसंग के बीच बीआरएस लेकर घर आए दल बहादुर सिंह बाधा बन रहे थे। जिसे रास्ते से हटाने के लिए पत्नी सुधा सिंह प्रेमी सुनील सिंह और साथी आशीष सिंह के साथ रास्ते से हटाने की योजना बनाई थी ।

घटना 6 नवंबर 19 की है जब दल बहादुर सिंह पत्नी के प्रेमी सुनील सिंह और आशीष सिंह लौर थाना क्षेत्र अंतर्गत नंदा तालाब के पास सड़क के किनारे बैठ कर जमकर शराब पिया। शराब का नशा चढ़ते ही दल बहादुर सिंह अपने दबे जमों को याद करते हुए सुनील सिंह के साथ गाली-गलौज शुरू कर दी। पहले से हत्या की योजना बनाकर बैठे सुनील सिंह और आशीष सिंह ने मिलकर अपने पास रखे रॉड से जोरदार प्रहार कर दिया था। घटनास्थल पर ही दल बहादुर की मौत हो गई थी। आरोपी हत्या को सड़क दुर्घटना सिद्ध करने के लिए सड़क के किनारे शव फेंक कर फरार हो गए थे। पत्नी दे रही थी लोकेशन मिली जानकारी के अनुसार पत्नी सुधा सिंह अपने रास्ते से पति दल बहादुर सिंह को हटाना चाहती थी। जिसके लिए योजना बनाकर सुनील सिंह और आशीष सिंह शराब पिलाने की योजना बनाई ।इस दौरान पत्नी सुधा सिंह बराबर दोनों आरोपियों के संपर्क में रही।

दल बहादुर सिंह ने जब पत्नी को फोन कर बताया कि वह ज्यादा शराब पी लिया है। तो योजना के अनुसार सुधा सिंह ने घर न आने की बात कही और दोनों के बीच मोबाइल में कहासुनी हुई। उधर योजना के अनुसार सुनील सिंह और आशीष सिंह बिछरहटा ले जाने की बात कहते हुए रीवा से बिछरहटा निकल गए। पहले से शराब के नशे में धुत तीनों ने नंदा तालाब के किनारे बैठकर फिर शराब पी और वहीं पर दल बहादुर की हत्या कर दी। हत्या के बाद पत्नी को फोन कर काम हो जाने की बात कहकर तीनों ने अपने मोबाइल बंद कर दिए थे।

Facebook Comments