CAA, NRC के खिलाफ भारत बंद कराने रीवा में भी उतरें विरोधी, नहीं दिखा बंद का कोई ख़ास असर

रीवा

रीवा। नागरिकता संशोधन अधिनियम सीएए, एनआरसी व एनपीआर के खिलाफ बुधवार को विभिन्न संगठनों के भारत बंद का आह्वान किया था। बंद का मिला-जुला असर देखने को मिला। लोगों ने हाथों में तिरंगा लेकर रैली निकाली। शहर के सभी स्कूल-कॉलेज व दफ्तर, पेट्रोल पंप खुले रहे। सवारी वाहन भी चलते रहे। प्रशासन एवं पुलिस ने किसी भी तरह की अप्रिय स्थिति से निबटने के लिए तैयारी कर रखी थी।

नहीं दिखा कोई ख़ास असर
शहर के जिन मार्गों पर जुलूस गुजरता वहां के दुकानदार अपना शटर गिरा देते और बाद में फिर बाजार खुल जाते। जिन बाजारों पर आंशिक असर दिखा उनमें शिल्पी प्लाजा, प्रकाश चौक, अस्पताल चौक, अमहिया सहित अन्य बाजार रहे। जिन प्रमुख मार्गों से होकर जुलूस गुजरा उनमें बड़ी दरगाह अमहिया से शुरू हुआ और अस्पताल चौक छोटी दरगाह से जय स्तंभ तिराहा होते हुए सिरमौर चौक से वापस बड़ी दरगाह अमहिया में समाप्त हुआ।

ये हुए शामिल
भारत बंद आव्हान में महामानव संघर्ष समिति के अध्यक्ष आर.पी.आई.ए के नेता रामकिशन निरत, उपाध्यक्ष आबिद हुसैन, शंकर चौधरी, वीरेन्द्र कुशवाहा, प्रेमचन्द्र वर्मा, अप्पू खान, बृजेश गौतम, कृष्ण कुमार सोनी, सुनील साकेत, रामगोपाल विश्वकर्मा, वीरेन्द्र बौद्ध, राजेन्द्र यादव, शैफ खान, सहरूख खान, मो0 असीम मंसूरी, मो0 आरिफ खान, लकी साकेत, अजीत चैधरी, जाहिद हुसैन मंसूरी, सुशील मिश्रा, धर्मपाल साकेत, उमेश मिश्रा मौजूद रहे। बहुजन क्रांति मोर्चा के छोटेलाल रजक, विकास कुमार, शाहिद अंसारी, अशोक साकेत, यूसुफ खान, फिरोज खान, दिलीप भारती, मनोज रावत, रामनरेश, संजय समुद्र एवं अन्य रहे। इसी तरह मुस्लिम राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के शहीद अंसारी, शौकतुल्ला खान, शाहिद सईदी, तारिफ खान, मुनाफ खान आफताब खान, अनवर मो.नजमा बेगम, शमीम बानो सहित अन्य लोग रहे। इस दौरान प्रशासन एवं पुलिस की व्यवस्था चौकस रही। इस रैली में एवं भारत बंद के समर्थन में भारत मुक्ति मोर्चा, राष्ट्रीय मूल निवासी अत्यंत पिछड़ी अनुसूचित जाति, जागृति मोर्चा, भारतीय विद्यार्थी युवा बेरोजगार मोर्चा, सरदार पटेल सेना, पिछड़ा वर्ग मोर्चा, मतदाता जागरण मंच एवं भीम आर्मी शामिल रहे।

Facebook Comments