रीवा: राष्ट्रीय लोक अदालत में 1618 प्रकरणों का निराकरण, साढ़े 6 करोड़ से अधिक राशि पर हुआ समझौता

रीवा

रीवा। आज आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में एक हजार 618 प्रकरणों का आपसी समझौते के आधार पर निराकरण किया गया तथा 6 करोड़ 51 लाख 95 हजार 705 रूपये की समझौता राशि निश्चित की गई। लोक अदालत में 83 दाण्डिक प्रकरण, एक करोड़ 5 लाख 65 हजार 761 रूपये के 101 चेक बाउंस के प्रकरण, दो करोड़ 78 लाख 73 हजार 400 रूपये के 106 मोटर क्लेम प्रकरण, 49 शिविर प्रकरण, 25 पारिवारिक विवाद, 40 लाख 39 हजार 258 रूपये के 254 विद्युत प्रकरण, दो लाख 29 हजार 537 रूपये के 58 विद्युत प्रकरण प्रीलिटिगेशन, 10 लाख 90 हजार रूपये के 4 श्रम प्रकरण, दो करोड़ 11 लाख 24 हजार 925 रूपये के 420 बैंक प्रीलिटिगेशन प्रकरण, जल कर के 260 प्रकरणों में 2 लाख 72 हजार 824 रूपये की राशि जमा करायी गई एवं 258 अन्य प्रकरणों का निराकरण किया गया। इससे पूर्व जिला न्यायालय परिसर में जिला एवं सत्र न्यायाधीश तथा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री जे.के. वर्मा ने दीप प्रज्जवलन कर राष्ट्रीय लोक अदालत का शुभारंभ किया ।

इस अवसर पर प्रधान न्यायाधीश, कुटुम्ब न्यायालय डॉ. सुभाष जैन, विशेष न्यायाधीश उमेश पांडव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव आर.पी. सोनकर तथा अतिरिक्त न्यायाधीश संदीप कुमार श्रीवास्तव, तृतीय अतिरिक्त न्यायाधीश सुधीर सिंह राठौर, चतुर्थ अतिरिक्त जिला न्यायाधीश राघवेन्द्र भारद्वाज, पंचम अतिरिक्त न्यायाधीश श्रीपाल यादव, षष्ठम अतिरिक्त जिला न्यायाधीश दिलीप गुप्ता, पुलिस अधीक्षक सुशांत कुमार सक्सेना, अपर कलेक्टर बी.के. पाण्डेय, सीजेएम हेमंत कुमार यादव, सीजे-1 योगीराज पाण्डेय, जिला रजिस्टार श्यामसुन्दर झा, सुभाष सनहरे, संतोष बघेल, कमलेश भरकुंदिया, सुधीर निगवाल, शशांक सिंह, अनुपम तिवारी, राखी साहू, जगमोहन सिंह, एवं कुमारी स्वाती सिंह बघेल न्यायाधीश, अधिवक्ता संघ के सचिव रामजी पटेल, जिला विधिक सहायता अधिकारी अभय कुमार मिश्रा एवं रमाशंकर द्विवेदी उपस्थित थे।

राष्ट्रीय लोक अदालत में दुर्घटना बीमा, बिजली बिल, नगरीय निकायों, श्रम विभाग, पारिवारिक विवाद सहित विभिन्न प्रकरणों के निराकरण के लिये 23 खण्डपीठें गठित की गई हैं। खण्डपीठ क्रमांक एक में जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री जे.के. वर्मा, क्रमांक दो में प्रधान न्यायाधीश कुटुम्ब न्यायालय डॉ. सुभाष जैन, क्रमांक तीन में विशेष न्यायाधीश श्री उमेश पांडव, चौथी खंडपीठ में प्रथम अतिरिक्त जिला न्यायाधीश श्री संदीप कुमार श्रीवास्तव तथा पांचवी खंडपीठ में अतिरिक्त जिला न्यायाधीश श्री सुधीर सिंह राठौर सुनवाई करेंगे। खण्डपीठ क्रमांक छह में न्यायधीश श्री राघवेन्द्र भारद्वाज, क्रमांक सात में न्यायाधीश श्री श्रीपाल यादव, क्रमांक आठ में अतिरिक्त जिला न्यायाधीश श्री दिलीप गुप्ता, क्रमांक नौ में मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी हेमन्त यादव तथा खण्डपीठ क्रमांक 10 में न्यायाधीश श्याम सुंदर झा ने प्रकरणों की सुनवाई की।

इसी तरह खण्डपीठ क्रमांक 11 में न्यायाधीश श्री योगीराज पाण्डेय, क्रमांक 12 में न्यायाधीश श्री सुभाष सुनहरे, क्रमांक 13 में न्यायाधीश श्री संतोष बघेल, क्रमांक 14 में न्यायाधीश श्री कमलेश भरकुंदिया, क्रमांक 15 में न्यायाधीश श्री सुधीर निगवाल, क्रमांक 16 में न्यायाधीश श्री शंशाक सिंह तथा खण्डपीठ क्रमांक 17 में न्यायाधीश सुश्री राखी साहू सुनवाई करेंगी। खण्डपीठ क्रमांक 18 में न्यायाधीश श्री अनुपम तिवारी, क्रमांक 19 में श्रम न्यायाधीश श्रीमती सीमा श्रीवास्तव, खण्डपीठ क्रमांक 20 में अपर जिला न्यायाधीश मऊगंज श्री सीएम उपाध्याय, खण्डपीठ क्रमांक 21 में प्रथम व्यवहार न्यायाधीश मऊगंज श्री मनीष कुमार पाटीदार, खण्डपीठ क्रमांक 22 में द्वितीय व्यवहार न्यायाधीश श्री प्रेमदीप सांकला तथा खण्डपीठ 23 में प्रथम व्यवहार न्यायाधीश सुश्री आकांक्षा टेकाम ने प्रकरणों की सुनवाई कर आपसी समझौते एवं सुलह नामे के आधार पर प्रकरणों का निराकरण किया ।