रीवा में चुनाव समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य का बड़ा बयान, कहा हम ऐसे जीतेंगे चुनाव

रीवा

रीवा। कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि पार्टी अब चुनाव के हिसाब से तेजी के साथ काम कर रही है। हर जिले से दावेदारों के नाम मंगाए जा रहे हैं। जल्द ही सारी औपचारिकताएं पूरी कर ली जाएंगी और नामों की घोषणा भी कर दी जाएगी। प्रेसकांफ्रेंस में कहा कि ३० फीसदी ऐसे लोगों को टिकट देने की योजना है जो नए होंगे, उनके लिए जरूरी नहीं कि पहले कभी विधानसभा का चुनाव लड़ा हो। जनपद और जिला पंचायत, नगरीय निकायों के प्रतिनिधियों को भी अवसर मिल सकता है। इसमें यह देखा जाएगा कि उक्त कार्यकर्ता की क्षेत्र में कैसी लोकप्रियता है। इसके लिए पार्टी के सर्वे और क्षेत्रीय नेताओं के बीच रायशुमारी के बाद नाम तय होंगे।
जातीय समीकरण के सवाल पर कहा कि इसका ध्यान देना आवश्यक है, समाज के हर तबके को प्रतिनिधित्व मिलना चाहिए। इससे लोकतंत्र को मजबूती मिलेगी। गठबंधन पर कहा कि इस पर चर्चा कुछ दलों के साथ चल रही है, लेकिन कांग्रेस की नीति स्पष्ट है कि उसी से समझौता होगा जो मूल्य, सिद्धांत और लक्ष्य में फिट बैठता हो। लोकसभा चुनाव की दृष्टि से चर्चाएं चल रही हैं। यह किसी एक चुनाव के लिए नहीं होगा आगे भी बना रहेगा। इस दौरान नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, विधानसभा उपाध्यक्ष राजेन्द्र सिंह, पूर्व मंत्री इन्द्रजीत पटेल, विधायक सुंदरलाल तिवारी, सुखेन्द्र सिंह, यादवेन्द्र सिंह, कमलेश्वर पटेल, सईद अहमद सहित अन्य मौजूद रहे।

भाजपा के बहाने नहीं चलेंगे, काम बताना होगा
सिंधिया ने कहा कि 15 साल से भाजपा प्रदेश में सरकार चला रही है और अपने काम बताने के बजाय बहानों में भटका रही है। अब मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि अमेरिका से बेहतर शहरों को बनाएंगे। उन्हें तो यह बताना चाहिए कि अब तक किया क्या है। सड़कों को लेकर कांग्रेस की पुरानी सरकार पर आरोप लगाते रहे लेकिन इस समय प्रदेश में सड़कों का बुरा हाल है। उन्होंने कहा कि हमने तो नारा ही लगा दिया है कि ‘हिसाब दो, जवाब दोÓ। भाजपा के प्रति जनता का आक्रोश है, यह बहाने नहीं बना पाएंगे। इसके अलावा सरकार पर अन्य कई गंभीर आरोप लगाते हुए सिंधिया ने कहा कि प्रशासनिक तंत्र का दुरुपयोग किया जा रहा है।

60 साल का फार्मूला कोई लकीर नहीं
नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह राहुल ने कहा कि 60 साल से ऊपर के प्रत्याशियों का टिकट काटने जैसी अटकलबाजी कोई अंतिम लकीर नहीं है। उन्होंने कहा कि पार्टी का प्रयास यह है कि अधिक से अधिक संख्या में नए लोग चुनाव लड़ें जो कुछ समय तक पार्टी को नेतृत्व दे सकें।<