रीवा जिले के 88,167 युवाओं को रोजगार का है इंतजार

Madhya Pradesh Rewa
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

रीवा। जिले में बेरोजगारी किस कदर तेजी से बढ़ती जा रही है यह रोजगार कार्यालय में पंजीयन कराने वाले बेरोजगार युवकों की लंबी लिस्ट से साफ जाहिर होता है कि लगभग जिले में 88167 युवक-युवतियां रोजगार के इंतजार में हैं। वे समय पर पंजीयन कराने के साथ ही अपना रोजगार पंजीयन पत्रक भी रिन्यू कराते हैं लेकिन रोजगार नहीं मिल पा रहा है। तो वह रोजगार के आंकड़े के मुताबिक जिले में 67419 युवा जबकि 20748 युवतियां रोजगार के लिए अपना पंजीयन करा रखी हैं। रोजगार कार्यालय में पंजीयन के लिए अब शासन स्तर से व्यवस्थाएं बनाई गई और ऑन लाइन सुविधा होने बनाए जाने के बाद रोजगार कार्यालय में पंजीयन कराने के लिए ऐसे बेरोजगार युवक-युवतियां इंटरनेट के माध्यम से पंजीयन करा रहे हैं। बताया जा रहा है कि तीन वर्षो में ऐसे युवाओं को रोजगार न मिलने की स्थिति में कार्ड रिन्यू कराना अनिवार्य किया गया है।

थर्ड एवं फोर्थ ग्रेड की नौकरी में पंजीयन अनिवार्य
मप्र सरकार प्रदेश में थर्ड और फोर्थ ग्रेड की नौकरी में रोजगार कार्यालय का पंजीयन नम्बर अनिवार्य किया गया है। जिसके चलते बेरोजगार युवक समय-समय पर अपना पंजीयन कराने के साथ ही उसे रिन्यू कराने में लगे हुए हैं। जिस तरह से बेरोजगारों की यह संख्या लगभग लाखों में पहुंच रही है उससे साफ जाहिर होता है कि नौकरी पाने के लिए युवा वर्ग कितना परेशान है। सरकार बेरोजगारी दूर करने और रोजगार उपलब्ध कराने की बात तो कहती है, लेकिन एक ही जिले में बेरोजगारों की इतनी तादाद से यह निश्चित है कि बेरोजगारी प्रदेश में बढ़ी है।

रोजगार मेला बन रहा आधार
जिले के बेरोजगार युवकों को शासन के निर्देश पर जिला रोजगार विभाग द्वारा समय-समय पर रोजगार मेला आयोजित किया जा रहा है। मिली जानकारी में बताया गया है कि रोजगार मेले की शुरूआत रीवा से वर्ष 2008 में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने किया था और उन्होंने रोजगार मेले को प्रदेश का मॉडल के रूप में विकसित किए जाने की घोषणा भी की थी। शुरूआती दौर से अब तक जिले में 88 रोजगार मेले लगाए गए हैं। लगभग 11 वर्षो में मेले के माध्यम से 24393 युवक-युवतियों को विभिन्न कंपनियों में रोजगार प्राप्त हुआ है। इसके साथ ही एयरफोर्स और आर्मी की दो-दो रैलियां भी आयोजित की गई हैं। एक बार फिर 23 सितम्बर को आईटीआई के मैदान में रोजगार मेला लगाया जा रहा है। इस मेले में 24 कंपनियों को आमंत्रित किया गया है जिससे रोजगार कार्यालय में बढ़ती बेरोजगारों की सूची कम हो सके और ज्यादा से ज्यादा युवाओं को रोजगार मिले। मेले में महिलाओं एवं दिव्यांगों के लिए अलग से रोजगार कार्यालय द्वारा व्यवस्था बनाई जाती है।

ज्यादा से ज्यादा युवक-युवतियों को रोजगार मिले इसके लिए रोजगार मेले बराबर लगाए जाते हैं। मेले से काफी युवाओं को काम मिला है। -अनिल दुबे, जेडी, रोजगार कार्यालय

Facebook Comments