बड़ी खबर: TRS COLLAGE के तत्कालीन प्राचार्य रामलला शुक्ला के ऊपर लगा SC/ST एक्ट, रीवा में मचा हड़कंप

रीवा

रीवा. टीआरएस कॉलेज के छात्र की शिकायत पर तत्कालीन प्राचार्य रामलला शुक्ला के खिलाफ पुलिस ने एससीएसटी सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। पुलिस को दी गई शिकायत में तत्कालीन प्राचार्य पर गाली गालौच, मारपीट एवं जातिसूचक शब्दों का प्रयोग कर प्रताडऩा का आरोप लगाया गया था। जांच के बाद प्रकरण दर्ज कर पुलिस ने विवेचना प्रांरभ कर दी है।

कॉलेज में अध्ययनरत बीए फाइनल के छात्र रामबदन साकेत निवासी बैकुंठपुर ने तत्कालीन प्राचार्य के खिलाफ मारपीट व जातिगत आधार पर अपमानित करने का आरोप लगाया था। शिकायत दी है कि वह प्राचार्य के कक्ष में समस्या लेकर गया था जहां उन्होंने मारपीट कर जातिगत रूप से अपनमानित किया और कमरे से भगा दिया। छात्र ने इसकी शिकायत एसपी समेत तमाम वरिष्ठ अधिकारियों से की थी जिसकी जांच सिविल लाइन थाने को दी गई थी। प्रारंभिक जांच के बाद पुलिस ने तत्कालीन प्राचार्य के खिलाफ मारपीट व एससीएसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। इस कार्रवाई से कॉलेज प्रबंधन में हड़कंप मचा हुआ है।

इन धाराओं के तहत दर्ज हुआ है मामला

टीआरएस के तत्कालीन प्राचार्य रामलला शुक्ला के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा ३२३ (मारपीट), २९४ (गाली-गलौच), अनुसूचति जाति एवं अनुसूचित जनजाति अधिनियम १९८९ धारा ३(१) (द) जाति ***** शब्दों का प्रयोग अन्य सहपठित के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है।

यह है मामला
बताया जा रहा कॉजले में बीए के छात्र रामबदन साकेत को भूगोल विषय की परीक्षा के बाद मिली अकंसूची में मात्र ६ अंक मिले थे। इस पर उसे पूरक घोषित किया गया था। इस संबंध में छात्र ने सूचना के अधिकार के तहत उत्तर पुस्तिका की छायाप्रति मांगी थी। सूचना आयुक्त के निर्देश के बाद कलेक्टर ने छात्र को उत्तर पुस्तिका की कॉपी उपलब्ध कराई थी। छात्र ने अधूरी जानकारी देने की शिकायत आयोग के पास की थी, जिस पर आयोग ने कलेक्टर से प्रतिवेदन मांगा था। इस दौरान छात्र द्वारा आयोग को अंकसूची पेश की थी जिसमें 66 अंक पाना बताया, लेकिन कलेक्टर ने जांच कराई तो छात्र द्वारा प्रस्तुत अकंसूची को फर्जी बताया गया। छात्र को वास्तविक में 6 अंक ही प्राप्त हुए। लेकिन छात्र इससे असंतुष्ट था।

-तत्कालीन टीआरएस प्राचार्यरामलला शुक्ला के खिलाफ छात्र ने ही मारपीट की शिकायत की थी जिस पर जांच के बाद मामला दर्ज किया गया है। पूरे मामले की जांच अभी चल रही है। जांच में जो तथ्य सामने आऐंगे उस आधार पर आगे कार्रवाई की जाएगी।
शशिकांत चौरसिया, थाना प्रभारी सिविल लाइन

Facebook Comments