विंध्य : ऐसे हुई थी जवान की मौत, उठा सवाल

रीवा सतना

सतना। दस्यु प्रभावित इलाके में डकैतों की सर्चिंग करने के दौरान तीन दिन पहले गायब हुए एसएएफ जवान सचिन्द्र शर्मा का रविवार की शाम बटोही के जंगल में शव मिला है। शव मिलने की खबर आते ही पुलिस महकमा में सनाका खिंच गया। एसपी राजेश हिंगणकर ने मौके पर जाकर शव बरामदगी कराते हुए घटनास्थल के आसपास जांच कराई है।

बेटे के लापता होने की खबर पाकर भिंड जिले के रौन थाना क्षेत्र निवासी जवान के परिवार के सदस्य भी मझगवां पहुंच चुके थे। रीवा रेंज के आईजी उमेश जोगा भी दोपहर मझगवां पहुंचे।

राडार में साथी जवान, पूछताछ जारी
शुक्रवार की शाम से एडी के जंगल से लापता जवान की तलाश में पुलिस पार्टियां जुटीं हुई थीं। जब जंगल में जाने वाले ग्रामीण और चरवाहों की मदद ली गई तो पता चला कि बटोही के जंगल में एसएएफ की १४वीं बटालियन के जवान सचिंद्र शर्मा का शव पड़ा है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि शरीर पर चोट के निशान नहीं हैं। एेसे में आशंका बनी है कि प्यास और बीमारी की वजह से जवान ने जंगल में भटकते हुए दम तोड़ दिया। जहां से जवान लापता हुआ था वहां से शव मिलने की जगह करीब तीन किमी दूर है।

पुलिस बल ने जवान को अंतिम सलामी दी
अंधेरा हो जाने पर पुलिस आसपास के इलाके को जांच नहीं सकी। अब सोमवार की सुबह बारीकी से जंगल में जांच की जाएगी। उधर, रात करीब 10 बजे जवान का शव सतना जिला अस्पताल पोस्टमार्टम के लिए लाया गया। डीएसपी के साथ एक पुलिस पार्टी मृत जवान के परिजनों के साथ शव लेकर गृह ग्राम जिला भिंड के लिए रात ही रवाना हो गई। इसके पहले पुष्प गुच्छ अर्पित कर पुलिस महानिरीक्षक उमेश जोगा, डीआईजी अविनाश शर्मा समेत जिला पुलिस बल ने जवान को अंतिम सलामी दी।

एसएएफ जवान सचिन्द्र शर्मा का शव जंगल से बरामद हुआ है। संदेह है कि प्यास के कारण उसकी मृत्यु हुई है।
राजेश हिंगणकर, एसपी, सतना