रीवा : प्रशासन की अनदेखी से त्रस्त नागरिकों ने स्वयं लिया मार्ग बनाने का निर्णय

रीवा

ग्राम पंचायत बहुरीबांध में मढ़ा, बदरिया, दुबहा के नागरिकों ने पंचायत से तंग आकर शुरू किया मार्ग का स्व निर्माण कार्य।
सरपंच ने नहीं किया तब लिया संकल्प : रीवा जनपद के अन्तर्गत ग्राम पंचायत बहुरीबांध में सरपंच के द्वारा पूरे कार्यकाल में ग्राम मढ़ा, बदरिया, दुबहा टोला में किसी भी तरह का निर्माण कार्य नहीं कराया गया, कई पी.सी.सी.सड़कों का टी.एस./ए.एस.होने के बाद भी कार्य नहीं हो पा रहा है, सम्बन्धित अधिकारियों से बात करने पर ज्ञात हुआ कि सरपंच मढ़ा, बदरिया, दुबहा में किसी भी तरह का निर्माण कार्य नहीं करेगी, मगर क्यों इसका जबाब नहीं मिलता है।
ग्रामीणों का निर्णय स्वयं करेगें निर्माण कार्य वोट देंगे नोटा में : ग्रामीणों का कहना है कि सभी जगह मिन्नत, अरजी, प्रार्थना करके देख लिया है, शिवा आश्वासन से कुछ हासिल नहीं हुआ और बरसात सर पर है, इसलिए स्वयं आपसी सहयोग, चंदे व श्रमदान से निर्माण कार्य करेगे और वोट नोटा में देगें।
सबसे बड़ी बिडम्बना : ग्राम पंचायत बहुरीबांध के अन्तर्गत आने वाले बदरिया माननीय सांसद महोदय श्री जर्नादन मिश्रा जी का ममिआउर है वहीं विधायका श्रीमती नीलम मिश्रा जी की कजिन बहन का ससुराल है, इसके बाबजूद यह क्षेत्र विकास के लिए तरस रहा है।
नवयवुकों का शासन प्रशासन से सवाल : यदि कोई चुना हुआ जनप्रतिनिधि मनमानी करे, पक्षपात पूर्ण कार्य करे, द्वेषपूर्ण रवैया अपनाये तो प्रशासन उस पर कोई अंकुश क्यों नहीं लगाता? क्यों उस पर विकाश कार्य करने का दबाव बनाया जाता? और क्यों ऐसे जनप्रतिनिधियों को दण्डित नहीं किया जाता, शासन प्रशासन से मांग है कि बहुरीबांध पंचायत की निष्पक्ष जांच कराकर सरपंच पर उचित कार्यवाही की जाय।
श्रमदान में सहयोग सतीश मिश्रा, संतोष उपाध्याय, रघुनाथ विश्वकर्मा, लोकेन्द्र तिवारी, दुर्गा प्रसाद, रामबिहारी तिवारी, रामलाल, उपाध्याय, अमृतलाल विश्वकर्मा, सोनू, मंजू, परवेश, उमेश तिवारी सहित कई नागरिकों ने अपना सहयोग दिया, सतीष मिश्रा जी का विशेष सहयोग रहा।