रीवा: फांसी पर झूलता मिला युवक का शव, आक्रोशित भीड़ ने TI से की हाथापाई, जान बचाकर भागी पुलिस

रीवा
रीवा। यहां अकोनी गांव में तीन लोगों ने एक युवक से मारपीट की थी जब यह युवक घटना की रिपोर्ट थाने में दर्ज कराने पहुंचा तो पुलिस वालों ने उसे डपटकर भगा दिया। दूसरे दिन इसी युवक का शव पेड़ पर लटका मिला जिससे ग्रामीणों का आक्रोष फूट पड़ा और उन्होंने उग्र रूप धारण कर लिया। आक्रोश इस कदर बढ़ा कि मौके पर पहुंचे TI से हाथापाई शुरू हो गई। यहां से TI को अपनी जान बचाकर भागना पड़ा।

जिले के सेमरिया थाना क्षेत्र अंतर्गत अकौनी गांव में रहने वाले राजोल कोल पुत्र मोहन 23 का शव सोमवार की सुबह घर से कुछ दूरी पर एकांत स्थान में पेड़ पर झूलता मिला। इसकी जानकारी पुलिस को दी गई। मृतक के शरीर में चोट के कई निशान होने पर लोगों ने हत्या का मामला दर्ज करने की मांग की। मौके पर पहुंचे TI को देखते ही आक्रोशित भीड़ ने हाथापाई शुरू कर दी। सेमरिया TI सुनील गुप्ता को मौके से जान बचाकर भागना पड़ा। TI पर आरोप था कि मृतक राजोल कोल रविवार को मारपीट की रिपोर्ट लिखाने थाने पहुंचा था, लेकिन एफआईआर दर्ज नहीं हुई। आक्रोशित लोगों का कहना था कि यदि पुलिस मारपीट की रिपोर्ट दर्ज कर तत्काल हरकत में आती तो यह घटना नहीं होती।

FSL टीम भी जान बचाकर भागी
युवक की लाश फांसी पर झूलती पाए जाने पर सेमरिया पुलिस द्वारा FSL टीम को भी मौके पर बुलाया गया था। FSL टीम मौके पर पहुंचकर जांच शुरू कर पाती इससे पहले ही आक्रोशित भीड़ ने TI के साथ हाथा पाई शुरू कर दी। यह सब देख FSLटीम भी वहां से अपनी जान बचाकर भागी।

ASP के आश्वासन के बाद उतारने दी लाश
सेमरिया TI के साथ हाथापाई की घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस का भारी बल सेमरिया के लिए रवाना किया गया। उधर मौके पर मौजूद लोगों का कहना था कि जब तक निष्पक्ष कार्यवाही नहीं होगी तब तक शव को नहीं उतारने देंगे। मौके पर मऊगंज एडिशनल एसपी शिवकुमार सिंह पहुंचे और उन्होंने आश्वस्त किया कि पूरी निष्पक्ष कार्यवाही होगी। इस मामले में जो भी दोषी हैं उन पर कार्यवाही का आश्वासन मिलने के बाद शव को उतारने के लिए लोग तैयार हुए।

मृतक की जेब से निकला शिकायती पत्र
मृतक राजोल के शव को उतारने के बाद जब उसकी जेब देखी गई तो एक शिकायती पत्र मिला। यह वह शिकायती पत्र है जो राजोल मारपीट की घटना के बाद एफआईआर दर्ज कराने सेमरिया थाना लेकर पहुंचा था। इस पत्र में लिखा है कि 17 जून को छोटू सिंह डाढ़, किशन गौतम सेमरिया एवं अरूण सिंह डाढ़ ने उसके साथ मारपीट की। मृतक पेशे से ड्राइवर था। उसके शिकायती पत्र में यह लिखा है कि वह बरा से लौट रहा था तो उक्त तीनों लोग छुहुआ के पास मिले और बोले कि चिरौंजी कोल के यहां मुर्गा बना है। वहां जाने पर इन लोगों द्वारा मारपीट की गई जिससे सिर पर चोट आई।