रीवा की श्रुति के बाद ड्रग्स के मामले में अब भोपाल की अदिति की भी हुई गिरफ्तारी

रीवा की श्रुति के बाद ड्रग्स के मामले में अब भोपाल की अदिति की भी हुई गिरफ्तारी

क्राइम भोपाल मध्यप्रदेश रीवा सतना

भोपाल। बैतूल के यश पाठे सुसाइड केस में गिरफ्तार की गई विधानसभा के पूर्व सचिव एवं रीवा के सत्यानारायण शर्मा की बेटी श्रुति शर्मा पर आरोप है कि वो एक प्राइवेट मेडिकल कॉलेज में स्टूडेंट्स को ड्रग सप्लाई करती थी। अभी इस केस की जांच पूरी नहीं हुई है और एक नई गिरफ्तारी हो गई। इस बार आदिति शर्मा को गिरफ्तार किया गया है। वो अपना नाम दीपिका दुबे भी बताती है। अदिति मप्र पुलिस के रिटायर्ड हवलदार की बेटी है।

आरोप है कि अदिति भोपाल में कॉलेज के छात्र-छात्राओ को MDMA (मिथाइल एनेडियो ऑक्सीमीथेंफेट एमीन) नाम का खतरनाक नशीला पदार्थ सप्लाई करती थी। उसके पास से पुलिस ने 100 ग्राम MDMA (मिथाइल एनेडियो ऑक्सीमीथेंफेट एमीन) बरामद किया है।

पुलिस सूत्रों का कहना है कि एसटीएफ ने गुरुवार को भोपाल के आई एस बी टी के पास से अदिति एवं उसके एक साथी को गिरफ्तार किया है। उनके पास से 100 ग्राम प्रतिबंधित नशीला पदार्थ MDMA (मिथाइल एनेडियो ऑक्सीमीथेंफेट एमीन) बरामद किया गया है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत पांच लाख रुपए बताई जा रही है।

अदिति, मुंबई से यह मादक पदार्थ लाकर स्टूडेंट्स एवं हुक्का लॉन्च में बेचती थी। पुलिस का दावा है कि अदिति पिछले 1 साल से यह कारोबार कर रही थी। एसटीएफ ने गुरुवार शाम ISBT के पास से श्रीराम काॅलोनी, मिसरोद निवासी 28 वर्षीय अदिति शर्मा उर्फ दीपिका दुबे और साथी 36 वर्षीय जफर हुसैन को गिरफ्तार किया है।

रिटायर्ड हवलदार की बेटी है अदिति
अदिति ने बीसीए किया है। वह श्रीराम काॅलोनी में 8 वर्षीय बेटी व माता-पिता के साथ रहती है। उसके पिता मप्र पुलिस में हवलदार के पद से रिटायर्ड हुए हैं। अदिति ने बताया कि वह इवेंट मैनेजमेंट का काम करती है। इवेंट के सिलसिले में उसका मुंबई आना-जाना होता था। उसके एक दोस्त के माध्यम से ही जफर हुसैन से पहचान हुई थी। जफर चौथी क्लास तक पढ़ा हुआ है। जफर हुसैन से मिलने के बाद अदिति इस धंधे में उतर आई।

नशा करने वाले को पता तक नहीं चलता उसके साथ क्या हो रहा है
अदिति और जफर को एसटीएफ ने नारकोटिक्स के स्पेशल जज गिरीश दीक्षित की कोर्ट में पेश किया गया। जज ने जब अदिति उर्फ दीपिका से पूछा कि एमडीएमए तुम्हारे पास कहां से आया। दीपिका का कहना था कि उसे जानकारी नहीं है। किसी ने उसके बेग में रख दिया होगा। जमानत का लाभ लेने के लिए दीपिका कोर्ट में बेटी को साथ लाई थी।

कोर्ट ने आरोपियों को दो दिन की पुलिस रिमांड पर सौंप दिया है। अधिकारियों का कहना है कि अदिति द्वारा स्टूडेंट्स, हुक्का और लाउंज में एमडीएमए की सप्लाई की जाती थी। एमडीएमए का सेवन करने वालों में सबसे अधिक संख्या कालेज स्टूडेंट्स की है। इसका असर लगभग 48 घंटे रहता है। जिसमें नशा करने वाले को यह पता नहीं होता कि उसके साथ क्या हो रहा है।

भोपाल का पहला मामला
मुंबई में एक ग्राम एमडीएमए की कीमत 1200 रुपए है। आरोपी यह नशीला पदार्थ लाकर राजधानी में 5000 रुपए प्रति ग्राम के हिसाब से सप्लाई करते थे। राजधानी में एमडीएमए बरामद होने का संभवत: पहला मामला सामने आया है।