मध्यप्रदेश : सवर्णों का आज भारत बंद, 35 जिलों में हाईअलर्ट, फोर्स तैनात1 min read

Madhya Pradesh

भोपाल |एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में सवर्ण वर्ग के आंदोलन ने तूल पकड़ लिया है। गुरुवार को देशव्यापी बंद के ऐलान के बीच मप्र के 35 से अधिक जिलों में पुलिस को हाईअलर्ट कर दिया गया है। संवेदनशील जिलों को पुलिस मुख्यालय ने अतिरिक्त फोर्स के तौर पर सशस्त्र पुलिस बल की 34 कंपनियां और 5000 प्रशिक्षित जवान उपलब्ध कराए हैं। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व पर भेजी गई फोर्स को भी जिलों में ही रहने के निर्देश दिए गए हैं। पूरे प्रदेश में धारा 144 लागू कर दी गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी वर्गों से आपसी प्रेम बनाए रखने की अपील की है। साथ ही विरोध प्रदर्शन कर रहे सवर्ण संगठनों से ज्ञापन लिया और उसे केंद्र सरकार को भेजने का भरोसा दिलाया। शेष |

इस बीच डीजीपी ऋषि शुक्ला ने अचानक मंत्रालय पहुंचकर मुख्य सचिव बीपी सिंह के साथ चर्चा की। इसके बाद राजस्व की वीडियो कांफ्रेंसिंग के बीच में सभी कलेक्टरों से बंद को लेकर बात की गई। साथ ही पूर्व तैयारी की समीक्षा की। बताया जा रहा है कि पुलिस के पास पहुंची सूचना में करीब 50 सामाजिक व व्यापारिक संगठन हैं जो बंद के सपोर्ट में हैं। देश में यह आंकड़ा 100 से अधिक है। सपाक्स मप्र ने भी बंद का समर्थन किया है। इंटेलीजेंस आईजी मकरंद देउस्कर के अनुसार कलेक्टर-एसपी करणी सेना और सभी सवर्ण समाज के संगठनों से चर्चा कर रहे हैं। प्रदेश स्तर से धारा 144 के संबंध में निर्देश हैं। जिलों में कलेक्टर इसे लागू करेंगे। सवर्ण समाज के संगठनों द्वारा सोशल मीडिया पर बंद पूरी तरह शांतिपूर्वक करने का एेलान किया गया है। चंबल, ग्वालियर, उज्जैन, जबलपुर, रीवा आदि संभागों में काले झंडे दिखाए जाने की घटनाओं को देखते हुए इन्हें संवेदनशील श्रेणी में रखा गया है। इंटरनेट सेवा को लेकर शासन ने तय किया है कि संवेदनशील स्थानों पर यह सेवा स्थगित रहेगी।

भाजपा पदाधिकारियों और मंत्रियों का काले झंडे दिखाए

ग्वालियर में भाजपा की संभागीय बैठक में शामिल होने आए प्रदेश प्रभारी व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विनय सहस्त्रबुद्धे, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत के साथ मंत्री जयभान सिंह पवैया, माया सिंह, नारायण सिंह कुशवाह आैर रुस्तम सिंह को विरोध प्रदर्शन का सामना करना पड़ा। होटल रमाया में बैठक में शामिल होने भाजपा नेता आैर मंत्री पहुंचे तो प्रदर्शनकारियों ने सड़क से ही उन्हें काले झंडे दिखाए। बाद में होटल को भी साढ़े तीन घंटे तक घेरा। टीकमगढ़ में पूर्व केंद्रीय मंत्री व वरिष्ठ भाजपा नेता प्रहलाद पटेल को काले झंडे दिखाए गए।

भिंड-मुरैना में धारा 144 होने के बाद भी रैली

मुरैना-भिंड में धारा 144 प्रभावी होने के बावजूद रैलियां निकालकर सवर्ण संगठनों ने बंद के लिए समर्थन मांगा। मुरैना में लोग हाथों में फूल आैर चूड़ियां लेकर बाजारों में निकले। श्योपुर, मुरैना, भिंड, दतिया, शिवपुरी के प्राइवेट बस ऑपरेटरों ने बसों का संचालन नहीं करने का फैसला लिया है।

Facebook Comments