MP Budget 2021-22 : CM, मंत्री और अधिकारी बस नहीं, आम लोग भी दें सुझाव : शिवराज सिंह चौहान

MP : सरकार ने फिर लिया कर्ज,दो लाख करोड़ रूपये के कर्ज में प्रदेश

मध्यप्रदेश

एमपीः सरकार ने फिर लिया कर्ज,दो लाख करोड़ रूपये के कर्ज में प्रदेश

भोपाल। प्रदेश सरकार ने एक बार फिर प्रदेश की व्यावस्था को बराबर संचालित रखने के लिये दो हजार करोड़ का कर्ज लिया है। मीडिया जानकारी के तहत जिसके बाद अब प्रदेश दो लाख करोड़ का कर्जदार हो गया है। ज्ञात हो कि प्रदेश में सरकार का गठन होने के बाद से वित्तीय स्थित बिगड़ी हुई है। जिसके चलते सरकार को बार-बार कर्ज लेना पड़ रहा है।

AMAZON DEALS – UPTO 50% OFF

एमपीः सरकार ने फिर लिया कर्ज,दो लाख करोड़ रूपये के कर्ज में प्रदेश


यह है वजह

लगातार कर्ज लेने के लिये जो कारण सामने आ रहा है, उसके तहत कोरोना एवं लॉकडाउन के चलते प्रभावित अर्थव्यावस्था तथा कर न आना जंहा कारण बताया जा रहा है वही केन्द सरकार से भी इस समस्या के चलते पहले की तरह आर्थिक मदद नही मिल पा रही है। जिसके चलते प्रदेश में कर्ज का बोझ बढ़ रहा है।

इस पर होगा खर्च

जानकारी के तहत इस पैसे से एक राशन कार्ड से देश और प्रदेश में कहीं भी राशन लेने की सुविधा, नगरीय क्षेत्रों में संपत्तिकर को प्रापर्टी की गाइडलाइन से जोड़ने, बिजली व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण के लिए काम करना था। वन नेशन-वन राशन कार्ड की तैयारी लगभग पूरी हो गई है तो नगरीय क्षेत्रों में संपत्तिकर को प्रापर्टी की गाइडलाइन से जोड़ने की व्यवस्था लागू की जा चुकी है। बिजली व्यवस्था में भी सुधार की प्रक्रिया अंतिम चरणों में है। इसके आधार पर कुछ ऋण ले लिया है तो कुछ लिया जाना है।

भोपाल: प्रदेश सरकार ने युवाओं को दिया बड़ा झटका, पढ़िए पूरी खबर….

अब मध्य प्रदेश के बिजली उपभोक्ताओं को लगेंगे करंट के झटके, सरकार ने दी मंजूरी इतना बढ़ा

साल 2021 में जम्मू-कश्मीर में भारत सरकार का ये काम होगा पूरा, पूरी दुनिया में बजेगा डंका..

पूर्व मंत्री एवं रीवा विधायक राजेन्द्र शुक्ल ने कोरोना वारियर्स को किया सम्मानित

यहाँ क्लिक कर RewaRiyasat.Com Official Facebook Page Like

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: 

Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *