आक्रोशित हुए किसानों ने किया कटनी मैहर हाइवे जाम, मौके पर पहुंचे अधिकारी

आक्रोशित हुए किसानों ने किया कटनी मैहर हाइवे जाम, मौके पर पहुंचे अधिकारी

कटनी मध्यप्रदेश

आक्रोशित हुए किसानों ने किया कटनी मैहर हाइवे जाम, मौके पर पहुंचे अधिकारी

कटनी। प्रदेश के ज्यादातर खरीदी केन्द्रांे में सर्वेयर तथा खरीद केन्द्र प्रभारियों की मनमानी के चलते जबरन धान रिजेक्ट की जा रही है। किसान परेशान हैं लेकिन नियमों का हवाला देकर कोई भी सुनने को तैयार नही है। मजबूरन किसानों को चक्काजाम करने जैसे कदम उठाने पड रहे हैं।

आक्रोशित हुए किसानों ने किया कटनी मैहर हाइवे जाम, मौके पर पहुंचे अधिकारी

बुधवार को कटनी जिले के कैलवारा खरीदी केन्द्र में धान रिजेक्ट किये जाने से नाराज होकर किसानों ने कटनी मैहर नेशनल हाइवे को जाम कर दिया। वही प्रशासन के पहुंचने पर जाम खुलवाया गया।

किसानों ने सुनाई आप बीती

किसानो का कहना है कि खरीदी केन्द्र में तैनात सर्वेयर मनमानी पर उतारू हैं वह साफ सुथरा धान को भी रिजेक्ट कर रहे हैं। वहीं कुछ किसानों ने कहा कि जिन किसानों से सर्वेयर को पैसा मिल जाता है उसकी धान को पास कर देते हैं तेा वही पैसा न देेने वाले किसानों को इसी तरह परेशान किया जा रहा है।

नायब तहसीलदार ने देखी धान की गुणवत्ता

किसानों द्वारा जाम लगाने की सूचना मिलने पर पुलिस के साथ प्रशासन भी पहुंच गया। मौके पर पहुंचे नायब तहसीलदार रविंद्र पटेल ने खरीदी केन्द्र विकाश वेयर हाउस लमतरा पहुंचे और धान की गुणवत्ता देखी। उनका कहना है कि धान ठीक है। थोडा कचारा था लेकिन धान रिजेक्ट करने लायक नही थी। सर्वेयर को समझ दिया गया है।

पुलिस ने खुलवाया जाम

जिले में नागरिक आपूर्ति निगम और सहकारी समितियों के सर्वेयर केन्द्रों पर तौल के दौरान धान की गुणवत्ता की जांच कर रहे हैं। जाबरन धान को रिजेक्ट कर रहे हैंै। ऐसे में किसानांे मजबूरन हाइवे में जाम लगा दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने किसानों केा समझाइस देते हुए जाम खुलवाया। जानकरी के अनुसार इसी तरह सभी औसत सभी केन्द्रों पर धान रिजेक्ट किया जाता है। किसान परेशान हैं लेकिन प्रशासन द्वारा कोई सुध नहीं ली जा रही है।

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *