चुनाव से पहले हर हाल में पूरा हो जायेगा रीवा-सतना का ये बड़ा प्रोजेक्ट, पढ़िये1 min read

Madhya Pradesh Rewa

जबलपुर. रेलवे बोर्ड ने केंद्र की मंशा को भांपते हुए मार्च 2019 तक देश के सभी प्रमुख रेल प्रोजेक्ट को कम्पलीट करने का निर्देश दिया है, इसमें वे प्रमुख प्रोजेक्ट हैं, जो अपने अंतिम चरण में हैं, यदि किसी प्रोजेक्ट में वक्त लग रहा है तो उसे चरणों में ही कम्पलीट करके उसका लाभ आमयात्रियों को पहुंचाने का लक्ष्य दिया गया है. इस प्रोजेक्ट में जबलपुर-गोंदिया ब्राडगेज परियोजना प्रमुख है, जिसे हर हाल में 2019 में लोकसभा चुनाव के पहले मार्च में ही पूरा करने का सख्त निर्देश बिलासपुर जोन के अधिकारियों को दिया जा चुका है.
उल्लेखनीय है कि रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी पिछले 3 माह में 2 पत्र सभी रेल जोनों के महाप्रबंधकों को लिखा गया है, जिसमें स्पष्ट किया गया है कि उनके जोनों के अंतर्गत जो भी कार्य/प्रोजेक्ट चल रहे हैं, उन्हें समय सीमा में पूरा करने की व्यवस्था करें, इसके लिए सीआरबी ने चल रहे प्रोजेक्ट्स की डिटेल भी दी है, जिसमें प्रोजेक्ट्स को पूरा करने के लिए तय तारीख या कहें टारगेट भी दिया गया है.

दपूमरे को जबलपुर-गोंदिया तक इसी साल ट्रेन दौड़ाने का दिया लक्ष्य

बताया जाता है कि सीआरबी ने जो पत्र दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे के महाप्रबंधक एसएस सोइन को लिखा है, उसमें उनके कार्य क्षेत्र में चल रहे कामों को पूरा करने को कहा गया है, साथ ही स्पष्ट किया गया है कि जबलपुर-गोंदिया ब्राडगेज परियोजना के तहत नैनपुर-बालाघाट के बीच जो काम बचा है और उसे तेजी से पूरा किया जाए, इसे इसी साल दिसम्बर 2018 तक पूरा कर लिया जाए.

इसी योजना के तहत जबलपुर से नैनपुर व गोंदिया से समनापुर तक रेल चलने लगी है, साथ ही विद्युतीकरण का काम भी पूरा हो चुका है, अब सिर्फ नैनपुर से समनापुर के बीच लगभग 34 किलोमीटर का ही खंड बाकी है, जिसका काम भी तेजी से चल रहा है, इस कार्य के पूरा होते ही जबलपुर से गोंदिया तक सीधी रेलसेवा शुरू हो सकेगी, जिसका लाभ जबलपुर सहित पूरे महाकोशल क्षेत्र को मिलेगा.

पमरे को कहा- इन परियोजनाओं को तय समय में पूरा करें

सीआरबी अश्विनी लोहानी ने पमरे के जीएम को पत्र लिखकर 17 प्रोजेक्ट की डिटेल भेजी है, जिसमें उसे समय सीमा में पूरा करने को कहा है. पत्र में स्पष्ट किया गया है कि जो परियोजनाएं चल रही हैं, उसे चरणों में बांटते हुए काम किया जाए, ताकि एक साथ पूरा करने की बजाय खंडों में काम पूरा होगा तो उसका लाभ आम लोगों को चरणों में मिलने लगेगा.

दिये गये टारगेट में सबसे मुख्य विद्युतीकरण का काम है, जो इटारसी से जबलपुर तक पूरा हो चुका है और बिजली के इंजिन से रेल भी चलने लगी है, इसके अलावा जबलपुर से कटनी साउथ तक का भी काम पूरा हो चुका है, शीघ्र ही इस खंड में भी बिजली के इंजिन से रेल को चलाये जाने की योजना है. अगले चरण में कटनी से सतना, मानिकपुर-इलाहाबाद, सतना से रीवा के बीच विद्युतीकरण का जो काम चल रहा है, इसे भी इसी साल के अंत तक या मार्च 2019 तक हर हाल में पूरा करने को कहा गया है.

चुनावी साल में जनता के बीच लोकप्रियता हासिल करने का है मकसद

जानकारों का मानना है कि रेलवे वैसे तो हर माह हर जोन से प्रगति रिपोर्ट मंगाता रहता है, लेकिन इस बार उसका पूरा ध्यान 2019 को लेकर है. चर्चा यह है कि अधिकांश प्रोजेक्ट को लोकसभा चुनाव के पहले पूरा करने से आम जनता को काफी लाभ होगा और रेल मंत्रालय इसका फायदा केंद्र सरकार की उपलब्धियों को आम चुनाव में करने के लिए करेगा, ताकि उसे इसका लाभ मिल सके.

Facebook Comments