टूट का डर, कांग्रेस दे रही प्रलोभन, 40 विधायकों को भाजपा ने भेजा पचमढ़ी..

MP: शोर गुल थमने के साथ ही अब गेंद मतदाताओ के हाथ, अपने ग्रह क्षेत्र लौट रहे है माननीय

भोपाल मध्यप्रदेश

शोर गुल थमने के साथ ही अब गेंद मतदाताओ के हाथ, अपने ग्रह क्षेत्र लौट रहे है माननीय

उपचुनाव। प्रदेश की 28 विधानसभा क्षेत्र में होने वाले मतदान के लिए अब शोर गुल थम गया है। जिसके चलते चुनाव मैदान में उतरे प्रत्याशी मतदाताओं के घर-घर पहुच कर उन्हे अपने पक्ष में कर रहें है। निर्वाचन आयोग भी मतदान का कार्य निर्भिक तरीके से समय पर कराने के लिए तैयारी को अंतिम रूप दे रहा है।

कमलनाथ ने खेला चुनावी दाव: कहा- सरकार बनते ही रोजगार सहायको, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओ, सहिकाओं, संविदा कर्मचारियों को सरकार बनते ही करेंगे नियमित

ग्रह क्षेत्र लौटने लगे माननीय

शोरगुल थमने के साथ ही चुनाव प्रचार में लगे सांसद एंव विधायक भी अब अपने ग्रह क्षे़त्र को लौटने लगे है। जानकारी के तहत निर्वाचन आयोग के नियम अनुसार प्रचार-प्रसार का शोर गुल थमने के बाद सांसद-विधायकों को चुनाव वाले क्षेत्र को छोड़ने का नियम है। जिसके चलते राजनैतिक दल के सभी सांसद-विधायक अब अपने ग्रह क्षेत्रो में पहुच कर काम काज शुरू करेगे। जनप्रतिनिधियों के ग्रह क्षेत्र से बाहर होने के कारण कई तरह के कार्य रूके हुए थे।

MP: शोर गुल थमने के साथ ही अब गेंद मतदाताओ के हाथ, अपने ग्रह क्षेत्र लौट रहे है माननीय

3 नवम्बर को होगा मतदान

उपचुनाव में 28 विधानसभा के लिए 3 नवम्बर को वोट डाले जाएगे। लगभग दो वर्ष में ही प्रदेश के उक्त सभी 28 विधानसभा में दूसरी बार क्षेत्र के मतदाता वोट डालकर अपने नेता का चुनाव करेगे। दरअसल सभी विधायकों ने अपनी विधायकी से स्तीफा दे दिया था। सरकार को बहुमत सिद्व करने के लिए अब विधायकों की जरूरत हैं। जिसके चलते भाजपा और कांग्रेस के नेता पूरी ताकत से लगे हुए है।

मध्यप्रदेश के 5 हजार कर्मचारियों को दीवाली से पहले जोरदार झटका, पढ़िए : MP NEWS

BHOPAL में दिल दहला देने वाली वारदात, युवक को 2 दोस्तों ने जिन्दा जलाया..

यहाँ क्लिक कर RewaRiyasat.Com Official Facebook Page Like

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *