मध्यप्रदेश: छोटे से शहर की महिला शिक्षक की प्रधानमंत्री मोदी ने आखिर क्यों की प्रशंसा, पढ़िए पूरी खबर

मध्यप्रदेश: छोटे से शहर की महिला शिक्षक की प्रधानमंत्री मोदी ने आखिर क्यों की प्रशंसा, पढ़िए पूरी खबर

मध्यप्रदेश सिंगरौली

सिगंरौली। मध्यप्रदेश के सिंगरौली जिले में संचालित शासकीय स्कूल हरई की महिला शिक्षक उषा दुबे ने लॉकडाउन में गरीबो बच्चो की पढ़ाई का जो तरीका अपनाया, उसे जानकार भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी उनकी तरीफ करने से अपने आप को नही रोक पाए। उन्होने अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात में महिला टीर्चर की प्रशंसा की है।

पढ़ाई का यह है तरीका

शासकीय टीर्चर उषा दुबे ने खुद की स्कूटी को चलता फिरता पुस्तकालय बना लिया। सुबह आठ बजे से चार घंटे तक बच्चों के बीच रहना और उनको पढ़ाना अब उनकी दिनचर्या बन गया है।

हमारे महान देश की महान परम्परा, खबर पढ़ आप भी रह जाएंगे दंग..

टीचर बनी किताब वाली दीदी

महिला टीर्चर बच्चो के बीच अपनी स्कूटी में किताबे लेकर पहुचती है। जिसके चलते बच्चे भी उन्हे किताबों वाली दीदी के नाम से पुकारते है। स्कूटी की आवाज सुनकर वे दौड़ पड़ते हैं। स्कूटी में ज्ञान-विज्ञान से लेकर जरूरी विषयों की 100 किताबें मौजूद रहती हैं।

मध्यप्रदेश: छोटे से शहर की महिला शिक्षक की प्रधानमंत्री मोदी ने आखिर क्यों की प्रशंसा, पढ़िए पूरी खबर

चलता-फिरता पुस्तकालय मिलने से बच्चों के माता-पिता भी खुश हैं। टीचर उषा दुबे बच्चों को कहानियां पढ़ाने और वाचन क्षमता बढ़ाने के लिए करीब दो महीने से मोहल्ले-मोहल्ले पहुंच रही हैं। हर मोहल्ले में करीब 15-20 बच्चे अलग-अलग आकर कहानियां पढ़ते हैं। साथ ही बच्चे अब अंग्रेजी भाषा बोलना भी सीख रहे हैं।

महिला टीर्चर उषा दुबे कहती है कि लॉकडाउन में बच्चो की पढ़ाई रूक सी गई थी। उनका पढ़ाई में मन लगा रहे और ज्ञान कंमजोर न हो इस लिए उन्होने सोचा की वे बच्चो के बीच पुस्तक लेकर पहुचेगी और बच्चो को शिक्षा से जोड़कर रखेगी।

पूर्व मंत्री के बिगड़े बोल, कहा – कमलनाथ के पैरों की धूल के बराबर भी नहीं हैं शिवराज

विंध्य की राजनैतिक उपेक्षा के लिए कौन जिम्मेदार ? पढ़िए पूरी खबर

यहाँ क्लिक कर RewaRiyasat.Com Official Facebook Page Like

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *