रीवा: थाने में गैंगरेप मामले को मानवाधिकार आयोग ने संज्ञान में लिया, DIG स्तर के अधिकारी से जांच के लिए लिखा पत्र

रीवा: थाने में गैंगरेप मामले को मानवाधिकार आयोग ने संज्ञान में लिया, DIG स्तर के अधिकारी से जांच के लिए लिखा पत्र

मध्यप्रदेश रीवा

रीवा: थाने में गैंगरेप मामले को मानवाधिकार आयोग ने संज्ञान में लिया, DIG स्तर के अधिकारी से जांच के लिए लिखा पत्र

रीवा। थाने में गैंगरेप मामले को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने संज्ञान में लिया है। आयोग ने प्रदेश के मुख्य सचिव, डीजीपी और डीजी जेल को नोटिस जारी किया है। आयोग ने इस पूरी घटना की जांच DIG स्तर के अधिकारी से कराने के निर्देश दिए हैं। आयोग ने मीडिया की खबरों के आधार पर स्व संज्ञान में लिया है।

इस तरह के लगाए गए है आरोप

खबर के मुताबिक जिले के मनगवां थाने के लॉकअप में पांच पुलिसकर्मियों पर गैंगरेप का महिला कैदी ने आरोप लगाया है कि बीते 9 से 20 मई 2020 तक उसे मनगवां थाने के लॉकअप में रखा गया था। जहां पर तत्कालीन एसडीओपी, थाना प्रभारी सहित तीन पुलिस कर्मी थाने में ही गैंगरेप किए। उस दौरान मनिकवार चौकी की महिला एसआई को भी इस घटना की जानकारी थी, क्योंकि उसे पकड़कर थाने तक वही लाई थी और पूछताछ भी कर रही थी।

अघ्यक्ष ने मीडियो को दी थी जानकारी

जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष राजेन्द्र पाण्डे ने इस मामले का खुलासा मीडिया के सामने करते हुए दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग की थी। उन्होंने कहा कि इस मामले की न्यायिक जांच भी जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने बैठा दी है। वहीं पुलिस की ओर से आधिकारिक रूप से इस मामले में कुछ नहीं बोला जा रहा है। पुलिस की ओर से यह भी कहा जा रहा है कि उक्त युवती इसके पहले भी कई लोगों पर आरोप लगा चुकी है।

रीवा: दवा की दुकानों में अचानक पहुची पुलिस, कारोबारियो में हड़कंप.

जिस तारीख के दौरान उसके साथ गैंगरेप का आरोप लगाया जा रहा है, वह घटना और गिरफ्तारी के पहले की बात कर रही है। पुलिस का कहना है कि जिस हत्या की घटना में युवती आरोपी है, वह घटना 16 मई को प्रकाश में आई थी, इसलिए उसके तर्क बेबुनियाद हैं।

आइजी के पास शिकायत लेकर पहुंचे लोग

गैंगरेप का आरोप लगाने वाली युवती जिस महिला की हत्या के आरोप में बंद है, उसके परिजन आईजी और एसपी कार्यालय शिकायत लेकर पहुंचे थे। उनका कहना है कि वह जेल से बाहर आने के लिए षणयंत्र रच रही है। वहीं जेल से ही वह संदेश भिजवा रही है कि बाहर आएगी तो पीड़ित परिवार को नहीं छोड़ेगी। लोगों ने यह भी मांग उठाई कि जब पुलिस ही उसके चलते सुरक्षित नहीं है तो आम लोगों का क्या हाल होगा। आरोप लगाने वाली युवती पर सख्त कार्रवाई की मांग उठाई गई है।

Ex CM के ‘आइटम’ वाले बयान पर राहुल की तीखी प्रतिक्रिया, ‘कमलनाथ जो भी हों, मुझे उनकी भाषा अच्छी नहीं लगी’

यहाँ क्लिक कर RewaRiyasat.Com Official Facebook Page Like करे

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *