रीवा: स्थानांतरण पर बैन के बावजूद चीफ इंजीनियर ने कर दिया 2 कर्मचारियों का तबादला, तो उच्च अधिकारी ने लगाई ऐसी फटकार

रीवा: जल संसाधन विभाग के अधीक्षक ने जमकर कमाई सम्पत्ति, दी झूठी जानकारी, लोकायुक्त में शिकायत के बाद सामने आया मामला…

मध्यप्रदेश रीवा

रीवा: जल संसाधन विभाग के अधीक्षक ने जमकर कमाई सम्पत्ति, दी झूठी जानकारी, लोकायुक्त में शिकायत के बाद सामने आया मामला…

रीवा। जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता गंगा कछार कार्यालय में पदस्थ अधीक्षक चंद्रमणि प्रसाद मिश्रा के खिलाफ लोकायुक्त एवं अवर मुख्य सचिव जल संसाधन से अनुपातहीन सम्पति कमाने एवं सम्पत्ति की झूठी जानकारी दिए जाने की शिकायत की गई है।

शिकायत कर्त्ता विनायक प्रसाद मिश्रा निवासी सिसवा लांलगांव सिरमौर ने अपने शिकायत पत्र में लिखा है कि जल संसाधन विभाग में काम करने वाले चंद्रमणि मिश्रा ने नौकरी करते हुए भष्टाचार करके सम्पत्ति अर्जित की है। जबकि अपनी सम्पत्ती की गलत जानकारी उनके द्वारा दी गई है। उन्होने मांग की है कि कमाई गई सम्पत्ति की पूरी जांच की जाए तो जल संसाधन विभाग से उनके द्वारा जो सम्पत्ति अर्जित की है। उसका पूरा मामला समने आएगा।

जबलपुर: एक और कोरोना योद्धा की हुई मौत, पढ़िए पूरी खबर

कौन है चन्द्रमणि मिश्रा

शिकायत कर्त्ता ने बताया कि चन्द्रमणि मिश्रा मूलतःग्राम सिसवा लालगांव सिरमौर हाल मुकाम अंनतपुर के निवासी है। वे जलसंसाधन विभाग में सहायक ग्रेड-एक के पद पर पदस्थ है। वे वर्तमान में विभाग के अधीक्षक पद की जिम्मेदारी सम्हाल रहे है।

सम्पत्ति की दी गई है झूठी जानकारी

जल संसाधन विभाग के अधीक्षक के खिलाफ की गई शिकायत में शिकायतकर्त्ता विनायक मिश्रा ने बताया कि चन्द्रमणि मिश्रा ने वर्ष 2019 में सम्पत्ति की झूठी जानकारी दी है। उन्होने रीवा शहर के अंनतपुर में 625 वर्ग फीट में घर होने की जानकारी दी हैं। जबकि उनका घर 2500 वर्ग फिट से ज्यादा क्षेत्र में है। उनके द्वारा त्यौथर क्षेत्र में 06 एकड़ जमीन की खरीदी की गई है। जिसकी वर्तमान कीमत 60 लाख रूपये से ज्यादा है।

मध्यप्रदेश में आया चौका देने वाला मामला, जानिए ! आख़िर पुलिस को अधजली लाश क्यों ले जानी पड़ी अस्पताल…

इसके अतिरिक्त ढेकहा आदर्श नगर अंनतपुर सोसायटी रीवा में 1500 वर्ग फीट का आवासीय प्लांट खरीदा गया है। अपने पुत्रियो एवं पत्नी के नाम चार अन्य प्लांट भी खरीदे गए है। अभी तक उन्होने अपनी भविष्य निधि का एक भी रूपया खाते से न तो अहरित किए है और न ही बैंक से कर्ज आदि लिए है। उनके खाते में 30 लाख रूपये जमा है। घरेलू खर्च एवं बनाई गई सम्पत्ति से साफ जाहिर है कि उनके द्वारा अपनी सरकारी नौकरी में भष्टाचार करके सम्पत्ति अर्जित की गई है।

यहाँ क्लिक कर RewaRiyasat.Com Official Facebook Page Like करें

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *