2 IPS अफसरों ने मिलकर मध्यप्रदेश और केंद्र सरकार को लगाया चूना, पढ़िए पूरी खबर..

2 IPS अफसरों ने मिलकर मध्यप्रदेश और केंद्र सरकार को लगाया चूना, पढ़िए पूरी खबर..

मध्यप्रदेश राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय

2 IPS अफसरों ने मिलकर मध्यप्रदेश और केंद्र सरकार को लगाया चूना, पढ़िए पूरी खबर..

भोपाल। केंद्र और मध्यप्रदेश सरकार के करोड़ो का चंपत लगाने वालों में हाल ही में महिला टीवी एंकर के साथ पकड़े गए IPS अफसरों पुरुषोत्तम शर्मा के नाम सामनें आया है। पूरा मामला पुलिस मुख्यालय से जुड़ा हुआ है।

बताया जा रहा है कि पुलिस मुख्यालय के आईपीएस अफसरों ने 5 करोड़ रुपए का घोटाला किया था. इसके जरिए फर्जी कंपनी बनाकर केंद्र और राज्य सरकार को चपत लगाई थी. हालांकि मामले में सीनियर आईपीएस अफसरों को बचाने के लिए गृह विभाग की तरफ से 7 वर्षों तक जांच को दबा दिया गया था. वहीं, मामले में जब गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव राजेश राजौरा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि मामले में जांच की जा रही है. जल्द ही इसे उच्च स्तर पर निर्णय के लिए रखा जाएगा.

मंडला: दिल्ली ले जाई जा रही लड़किया अपनी सूझबूझ से हाथरस पुलिस के पास पहुची, जांच में जुटी पुलिस

आखिर क्या है पूरा मामला?

मामला साल 2010 का है। भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर और उज्जैन के ट्रैफिक सर्वे के नाम पर 5 करोड़ का घोटाला किया गया था. जिसमें केंद्र सरकार से 4 करोड़, जबकि राज्य सरकार से 1 करोड़ रुपए लिए गए थे. सूत्रों की मानें तो जिस समय यह घोटाला हुआ था. उस समय तत्कालीन डीजीपी एसके राउत और एससीआरबी में पदस्थ रहे पुरषोत्तम शर्मा की भूमिका संदिग्ध रही है।

सूत्रों के मुताबिक़ पुलिस मुख्यालय के अफसरों ने कंपनी से सांठ-गांठ कर मेसर्स इन डिवेलप नई दिल्ली भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर और उज्जैन शहर के यातायात का कागजी सर्वे करवाकर उसे पांच किश्तों में 4 करोड़ 95 लाख का भुगतना करवा दिया था. लेकिन जिस कंपनी को भुगतान किया गया उसके बिलों पर टीन नंबर तक नहीं था. जिसकी वजह से अफसरों ने 10 प्रतिशत टीडीएस भी नहीं काटा और इसी दौरान पुरषोत्तम शर्मा का एससीआरबी से तबादला हो गया उनकी जगह संजय झा एससीआरबी में आईजी के पद पर पदस्थ हुए।

जब उन्हें पता चला कि किसी कंपनी का 10 प्रतिशत टीडीएस काटे बिना भुगतान किया गया तो उन्होंने इस बारे में कंपनी से जानकारी मांगी. लेकिन कंपनी की तरफ से कोई जवाब नहीं दिया गया. इसके बाद तत्कालीन आईजी संजय झा ने एससीआरबी के इंस्पेक्टर शंखधर द्विवेदी को कंपनी के पते पर दिल्ली भेजा. लेकिन तब तक कंपनी उस पते से भाग चुकी थी. इस पूरे मामले में एससीआरबी ने कंपनी के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया. इसके बाद तत्कालीन एडीजी ने पूरे मामले की जांच ईओडब्ल्यू से कराने के लिए गृह विभाग को पत्र लिखा था जो दबा दिया गया।

प्रोजेक्ट के तहत किया गया करोड़ो का खेल

शहरी विकास मंत्रालय ​सचिव डॉ. एम रामचन्द्रन ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखकर शहरों में यातायात व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए प्रोजेक्ट बनाने का आदेश दिया था. इस प्रोजेक्ट के तहत 80 प्रतिशत राशि केंद्र सरकार की तरफ से, जबकि 20 प्रतिशत राशि राज्य सरकार की तरफ से दिया जाना था. इसकी जानकारी मिलते ही स्टेट क्राईम रिकॉर्ड ब्यूरो ने राज्य सरकार को बताए बिना ही सीधे शहरी विकास मंत्रालय को 5 शहरों भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर और उज्जैन में या​तायात सुधार के लिए 5 करोड़ रुपए का प्रस्ताव बनाकर भेज दिया था। मामलें का पर्दा उठने से आईपीएस अधिकारी की मुश्किलें बढ़ गई है।

रीवा: नशे के सौदागरों ने किया युवक पर जानलेवा हमला, पढ़िए पूरी खबर

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *