इस नम्बर पर आरटीओ विभाग ने कमाया साढ़े चार लाख रूपये, देर रात तक लगाई गई बोली...

सिंगरौली: PM की ड्रीम प्रोजेक्ट में लगा ग्रहण, चट गए करोड़ो की रकम पढ़े पूरी ख़बर

मध्यप्रदेश सिंगरौली

सिंगरौली: PM की ड्रीम प्रोजेक्ट में लगा ग्रहण, चट गए करोड़ो की रकम पढ़े पूरी ख़बर

सिंगरौली। प्रधानमंत्री( PM) की ड्रीम प्रोजेक्ट को घोटालेवाजो ने एक कसर नही छोटी पूरी तरह से दीमक की तरह चट गए, ड्रीम प्रोजेक्ट में महा घोटाला सामने आया है। इस महा घोटाले में चार बड़े जिम्मेदार ओहदे पर बैठे व्यक्ति का नाम सामना आया हैं । जिनसे चार करोड़ रुपये की रिकवरी होनी है। सभी संबंधितों को नोटिस जारी हो चुका है। प्रारंभि जांच कार्पोरेट कार्यालय स्तर से हुई है, अब विभागीय जांच की तैयारी की जा रही है।

रीवा: जल्लादो ने बारी-बारी से किया युवती के साथ गैंगरेप, युवती कहती रही…

ज्ञात हो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर घर को रोशन करने की योजना के तहत सौभाग्य योजना लांच की। उद्देश्य था कि हर गरीब के झोपड़े को बिजली कनेक्शन मिले। किसी को केरोसिन तेल से ढिबरी अथवा लालटेन न जलानी पड़े। लेकिन योजना शुरू होते ही इसमें भी दीमक लग गए।

पीएम के ड्रीम प्रोजेक्ट में पलीता लगाने की कोशिश की जानकारी होते ही मध्य प्रदेश पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने व्यापक पैमाने पर जांच कराई तो बिजली कंपनी के चार अफसरान जिम्मेदार पाए गए। इन सभी से साढ़े चार करोड़ रुपये की रिकवरी का मामला बना है। सभी को नोटिस जारी कर दिया गया है।

बताया जा रहा है कि जांच में सीधी जिले के तत्कालीन अधिकारियों में एसई अलीम खान, कार्यपालन संत्री अमित कुमार, एई उपेन्द्र यादव और एई शैलेन्द्र निहोलिया ने योजना से जुड़े कार्यों में काफी ज्यादा गड़बडिय़ां कीं। विभागीय सूत्र बताते हैं कि सौभाग्य योजना में हुई गड़बडिय़ों से जुड़ी 4 शिकायतें सीएम तक पहुंची। इन शिकायतों के आधार पर ऊर्जा विभाग सक्रिय हुआ।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक जिले में सौभाग्य योजना के लगभग 110 करोड़ के कार्य हुये थे। उनमें से जो गड़बडिय़ां सामने आयी हैं वो 3 ठेकेदारों के कार्यों से जुड़ी हैं। ऐसे में कहा जा रहा है कि अगर कायदे से योजना के सभी कार्यों की जांच हो तो 35 से 40 करोड़ से भी ज्यादा की रिकवरी जिम्मेदारों पर निकल सकती है।

वर्जन

“जिले में सौभाग्य योजना के कार्यो में हुई गड़बड़ी की जांच कार्पोरेट कार्यालय स्तर से हुई थी, जिसमें 4 अधिकारियों को नोटिस जारी हुआ है। इसमें सीधी वृत्त के तत्कालीन एसई, एसटीसी के डीई व 2 एई शामिल हैं। उच्च कार्यालय के निर्देश पर इन सभी की विभागीय जांच होगी।”

– एसपी तिवारी, एसई सिंगरौली वृत्त

सिंगरौली: राजस्व रिकार्ड में आठ वर्षीय मासूम बना अतिक्रमणकारी, नोटिस के साथ पेशी में उसके पहुचते ही मच गई खलबली, पढ़िए पूरा मामला

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *