ब्लैकमेलर पर प्रशासन का शिकंजा, झूठी शिकायत कर वसूली का आरोप

सीधी: चुरहट तहसीलदार पर हरिजनों ने लगाया आरोप, कलेक्टर को भेजा शिकायती पत्र दी आमरण अनशन की चेतावनी..

मध्यप्रदेश सीधी

सीधी: चुरहट तहसीलदार पर हरिजनों ने लगाया आरोप, कलेक्टर को भेजा शिकायती पत्र दी आमरण अनशन की चेतावनी..

सीधी। जिले के चुरहट तहसील के पचोखर गांव में हरिजनों के घरौदे पर तहसीलदार के हथौड़े का प्रहार हुआ है । जिससे दर्जन भर से ज्यादा हरिजनों के घर जमींदोज हो गए एक हरिजन को तहसीलदार के चौकीदार ने मारपीट कर घायल भी कर दिया है घटना गुरुवार की दोपहर की बताई गई है।

MP उपचुनाव: जीतू पटवारी ने हरदीप सिंह डंग पर लगाए गंभीर आरोप, कहा- कांग्रेस से धोखेबाजी कर हुए भाजपा में शामिल, अचानक आए पैसे से खरीदा घर, लगाई फैक्ट्री

पीड़ितों ने मेल के माध्यम से कलेक्टर को शिकायत पत्र भेजकर बताया कि पचोखर गांव के रानी तालाब के पास आराजी नंबर 195 जो मध्य प्रदेश शासन की है । उसमें कई रसूखदारो ने घर बना कर कब्जा किए हुए हैं। उन्हीं के साथ हरिजनों ने भी मिट्टी के घर और घास फूस की झोपड़ियां बनाकर बीते कई सालों से रह रहे थे 8 अक्टूबर की दोपहर में ग्राम पंचायत के सचिव ने हरिजनों को फोन करके यह बताया कि उनके द्वारा की गई मनरेगा मे काम की मजदूरी का भुगतान किया जाना है।

रीवा: दोस्त ने ही दोस्त के सीने में घोंप दिए चाकू,जानिए क्या थी वजह

मजदूरी भुगतान पाने के लालच में सभी हरिजन पंचायत सचिव के पास चले गए। तभी अपने लाव लश्कर के साथ पहुंचे चुरहट तहसील के तहसीलदार ने पूरी झोपड़ियां और मिट्टी के घरौदों को जमींदोज करा दिया इसकी जानकारी जब परिजनों को लगी तब तक उनके घर जमींदोज हो चुके थे ।

सूत्रों की मानें तो घास फूस की झोपड़ियों को गिराने के बाद आग के हवाले करा दिए हैं । हरिजन‌ बच्चो को लेकर आसमान के नीचे रहने को मजबूर हो गए हैं। इस संबंध में कम्युनिस्ट नेता राममणि प्रसाद मिश्रा ने बताया कि हरिजनों के घर गिराने की जानकारी उन्हें मिली तो वे चुरहट एसडीएम से गुहार लगाने पहुंचे लेकिन वह ऑफिस में नहीं मिले तो पीड़ितों ने थाना पहुंचकर लिखित में शिकायत दर्ज कराई।

शुक्रवार को एसडीएम से मिलने के लिए कार्यालय गए हुए थे लेकिन एसडीएम रामपुर नैकिन जनपद पंचायत के सीईओ के विदाई समारोह में शामिल थे जिसके कारण वह नहीं मिल सके दिन भर इंतजार करने के बाद पीड़ितों ने शिकायती पत्र कलेक्टर को भेजकर न्याय की गुहार लगाया है। देखना है कि कलेक्टर के पास पहुंची शिकायत पर उन्हें न्याय मिल पाता है यह फिर तहसीलदार का मनमानी हथोड़ा कामयाब होता है।

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *