इस नम्बर पर आरटीओ विभाग ने कमाया साढ़े चार लाख रूपये, देर रात तक लगाई गई बोली...

एमपीः कार में मिले 51 लाख रूपये से भाजपा-कांग्रेस के नेताओ में खलबली,जानिए क्या लगा रहे है आरोप

भोपाल मध्यप्रदेश

एमपीः कार में मिले 51 लाख रूपये से भाजपा-कांग्रेस के नेताओ में खलबली,जानिए क्या लगा रहे है आरोप

एमपी/इंदौर। कार में मिले 51 लाख रूपये की जानकारी लगते ही राजनैतिक दलो में खलबली मचा गई। नोट के बदले वोट बता कर भाजपा और कांग्रेस पाट्री के नेता एक दूसरे पर आरोप लगा रहे है।

सांवेर से कांग्रेस प्रत्याशी प्रेमचंद गुड्डू ने डीआईजी को फोन कर आरोप लगाया कि पकड़ी गई रकम से भाजपा की पोल खुल गई है। वह नोट से वोट खरीदकर चुनाव लड़ना चाहती है। इसकी निष्पक्ष जांच कराई जाए और नोटों के सौदागरों के नाम सार्वजनिक किए जाएं।

कांग्रेस इसे दे रही राजनैतिक रंग

कांग्रेसियों के बयान पर भाजपा ने भी पलटवार किया। प्रवक्ता उमेश शर्मा ने वीडियो जारी कर कहा कि प्रेमचंद गुड्डू जी मैं शुरू दिन से ही कह रहा हूं कि आप इस चुनाव को बहुत ही लपकबाजी के साथ लड़ रहे हैं। जरा-सा कोई घटनाक्रम घटा तो आप उसे राजनीतिक रंग देने की कोशिश करते हैं। 50 लाख 90 हजार रुपए जो कार से मिले हैं, उस मामले में बयान जारी करने से पहले 10-15 मिनट तो रुक जाते, आपने इंदौर डीआईजी से बात की, उन्होंने वास्तविकता भी आपको बताई कि किसी मोहन सोनी का रुपया है जो सराफा में ले जाया जा रहा था।

कार में सरार्फा कारोबारी लेकर जा रहा था नोट

सांवेर की तरफ जा रही एक कार में चैकिंग के दौरान करीब 51 लाख रुपए नकद मिले थें। घटना के बाद इनकम टैक्स विभाग के बड़े अधिकारी भी पहुंच गए। पुलिस के मुताबिक अरविंदो अस्पताल के पास पुलिस की स्पेशल टीम वाहनों की जांच कर रही थी। 9 बजे के इंदौर से सांवेर की ओर जा रही कार को पुलिस ने रोका। टीम को शक हुआ तो कार की तलाशी ली गई। जिसमें रखे बैग में बड़ी मात्रा में कैश रखा हुआ था।

पुलिस कार सवार को सीधे बाणगंगा थाने ले गई और यहां पर पैसों की गिनती की गई तो 50 लाख 90 हजार रुपए नकद निकले। पुलिस के अनुसार कार सवार ने अपने आप को इटारसी निवासी मोहनलाल सोनी बताया है। वे ज्वेलर हैं और एक ज्वेलर को पेमेंट देने आए थे।

मोहनलाल सोनी ने पुलिस को बताया कि हम तीन भाई हैं, तीनों की शॉप है, माल की पेमेंट करने यहां आए थे। हमारे पास सब सबूत हैं। वे उज्जैन नहाने जा रहे थे। लौटकर इंदौर में पेमेंट करना था। पुलिस और इंनकम टैक्स विभाग की जांच के बाद ही रूपये मामले का खुलासा हो पाएगा।

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

FacebookTwitterWhatsAppTelegramGoogle NewsInstagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *