मुख्यमंत्री शिवराज का आरोप, कमलनाथ हमारे विधायकों को फ़ोन कर रहे है और कह रहे आओ जितना पैसा चाहिए ले लो, डरा धमका कर भी...

शिक्षक भर्ती में मुख्यमंत्री शिवराज ने कुछ नहीं किया तो कमलनाथ को शिक्षकों ने लिखा पत्र…

भोपाल मध्यप्रदेश

शिक्षक भर्ती में मुख्यमंत्री शिवराज ने कुछ नहीं किया तो कमलनाथ को शिक्षकों ने लिखा पत्र…

BHOPAL: मध्यप्रदेश में शिक्षकों की भर्ती को लेकर शिक्षकों ने अब नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ को पत्र लिखकर कहा की आपके शासनकाल में शिक्षक भर्ती का शेड्यूल बना था लेकिन भर्ती होने के पहले ही सरकार बदल गई और हमारा काम रुक गया. 

शिक्षकों ने कहा की उन्होंने डीपीआई और मुख्यमंत्री से इस मसले पर कई बार मुलाकात की लेकिन कोई हल नहीं निकला। आपको बता दे की शिक्षक भर्ती के लिए मध्यप्रदेश में 19,200 उच्च माध्यमिक और 11,374 शिक्षकों ने मध्यप्रदेश में शिक्षकों की अटकी भर्ती प्रक्रिया को दोबारा शुरू करने के की मांग की है।


क्या फिर आइसोलेट होना पड़ेगा मुख्यमंत्री सिंह शिवराज चौहान को, जाने ऐसा क्यों?

कोरोना संक्रमण को मात देने के लिए मध्य प्रदेश शासन लगातार प्रयास कर रहा है. बावजूद इसके राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या कम होने के बजाय दिनों-दिन बढ़ रही है. मुख्यमंत्री शिवराज हाल ही में कोरोना संक्रमण से ठीक हुए हैं. जिसके बाद उन्होंने पहले की तरह ही काम शुरू किया. इसी बीच सीएम दोबारा इंदौर में एक कार्यक्रम के दौरान एक कोरोना संक्रमित के संपर्क में आ गए हैं.

दरअसल पिछले शुक्रवार को सीएम शिवराज ट्रेचिंग ग्राउंड में बायोमेथेनाइजेशन प्लांट के शिलन्यास कार्यक्रम में पहुंचे थे. जहां लोकार्पण के लिए नगर निगम उपायुक्त अरुण शर्मा द्वारा सीएम को रिमोट पकड़ाया गया. चिंता की बात ये है कि अरुण शर्मा की कोरोना जांच की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. सीएम के साथ मंच पर भाजपा के कई दिग्गज नेता भी मौजूद थे. जिन सभी पर कोरोना संक्रमण का खतरा बन गया है.

जानकारी के मुताबिक इस कार्यक्रम के आयोजन का सारा कार्यभार अरुण शर्मा संभाल रहे थे. इसी के चलते सीएम को रिमोट थमाने के लिए अरुण शर्मा ही आगे बड़े. हालांकि ये उनकी बड़ी लापरवाही है. बताया जा रहा है कि उनके साथ कमरे में बैठने वाले एक अधिकारी पिछले दिनों कोरोना पॉजिटिव निकले थे. खुद को आइसोलेट कर कोरोना जांच कराने के बजाये अरुण शर्मा लगातार दफ्तर आते रहे और लोगों के संपर्क में भी रहे.

क्या CM को फिर होना पड़ेगा आइसोलेट?

कहा जाता है जो व्यक्ति कोरोना संक्रमण से ठीक हो जाता है उसका शरीर एंटीबॉडी बन जाता है. लेकिन हाल ही में एक शोध से पता चला है कि कोरोना वायरस से लड़ने वाली एंटीबॉडी हल्के लक्षण वाले मरीजों में कुछ समय ही रहती है. अगर इस बात पर गौर किया जाए तो मुख्यमंत्री खतरे में नहीं है पर मंच पर मौजून अन्य नेताओं पर खतरा मंडरा रहा है.

Netflix दे रहा है फ्री ऑफ़र- अब आप को रिचार्ज करने की जरुरत नहीं, बिना अकाउंट के ही फ़्री में देख सकेंगे सीरीज़ और फिल्में, जानिए कैसे

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी

जुड़ें:  FacebookTwitterWhatsAppTelegramGoogle NewsInstagram