MP: नर्मदा खतरे के निशान से 9 फीट ऊपर, होशंगाबाद, नरसिंहपुर, जबलपुर समेत कई जिलों में बाढ़ से हालात बिगड़े..

MP: नर्मदा खतरे के निशान से 9 फीट ऊपर, होशंगाबाद, नरसिंहपुर, जबलपुर समेत कई जिलों में बाढ़ से हालात बिगड़े..

जबलपुर भोपाल मध्यप्रदेश

MP: नर्मदा खतरे के निशान से 9 फीट ऊपर, होशंगाबाद, नरसिंहपुर, जबलपुर समेत कई जिलों में बाढ़ से हालात बिगड़े..

MP: मध्यप्रदेश में बाढ़ के हालात के बीच सेना ने भी मोर्चा संभाल लिया है। छिंदवाड़ा में सेना के हेलिकॉप्टर ने एक युवक को रेस्कूयू कर उसकी जान बचाई। होशंगाबाद में सेना की कई टुकडिय़ां रेस्कूयू ऑपरेशन में जुटी हुई हैं। प्रदेश में एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की 255 टीम तैनात कर दी हैं। इंदिरा सागर और ओंकारेश्वर बांध के गेट खोलने के बाद नर्मदा ने अपना रौद्र रूप धारण कर लिया है।

मध्यप्रदेश के 9 जिलों में भारी बाढ़, होशंगाबाद, सीहोर तथा रायसेन के कई गांव बाढ़ से घिरे

लगातार बढ़ रहे जलस्तर के कारण खंडवा, खरगोन, बड़वानी और धार जिलों को रेड अलर्ट पर रखा गया है। देवास के नेमावर में नर्मदा खतरे के निशान से 12 फीट ऊपर बह रही है। इससे घाटों पर पुलिस बल तैनात किया गया है। सागर के देवरी कला में मकान गिरने से 6 लोग घायल हो गए। जबलपुर में सुबह से बारिश हो रही है। इससे नर्मदा के घाट डूब गए। कटनी जिले के एक गांव में कच्चे घर की दीवार गिरने से चार बच्चों की मौत हो गई।

लगातार हो रही बारिश की वजह से कई सड़क मार्ग बंद हो गए हैं। 120 डैम में क्षमता से 90 फीसदी ज्यादा पानी प्रदेश में लगातार हुई बारिश से 251 में से 120 डैम में पानी क्षमता से 90 फीसदी से ज्यादा हो चुका है। इससे ज्यादातर डैम को गेट खोलने से निचले क्षेत्रों में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। होशंगाबाद में भारी बारिश से नर्मदा का जलस्तर खतरे के निशान 964 फीट से 4 फीट ऊपर यानी 968.90 पर पहुंच गया। तवा डैम के सभी 13 गेट को 30- 30 फीट खोलकर 5 लाख 33 हजार 823 यूसेक पानी प्रति सेकंड छोड़ा जा रहा है।

यहां भारी से अति भारी बारिश का अलर्ट

मौसम केंद्र ने रविवार को छिंदवाड़ा, विदिशा, सीहोर, राजगढ, शाजापुर और आगर में अत्यधिक भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है।भोपाल, रायसेन, नरसिंहपुर, सिवनी, बालाघाट, दमोह, सागर, बुरहानुपर, खंडवा , बड़वानी, धार, इंदौर, रतलाम, उज्जैन, देवास, नीमच और मंदसौर में अति भारी बारिश का अलर्ट है।

सतना में एक साथ 6 पटवारी निलंबित, कारण जान रह जाएंगे दंग, पढ़िए

[signoff]