मध्यप्रदेश: बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व की मादा हाथी की करंट लगने से मृत्यु

मध्यप्रदेश: बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व की मादा हाथी की करंट लगने से मृत्यु

मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश: बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व की मादा हाथी की करंट लगने से मृत्यु

मध्यप्रदेश: बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व पनपथा परिक्षेत्र की गंगीताल बीट के अंतर्गत निर्मित तालाब की मेड़ से गुजर रही एक मादा हाथी की 11 केबी विद्युत लाइन के सम्पर्क में आ जाने के कारण करंट से मृत्यु हो गई है।

बांधवगढ़ रिजर्व के क्षेत्र संचालक श्री बिन्सेट रहीम ने बताया कि तकरीबन 15-20 हाथियों का एक दल 28 अगस्त की रात से गंगीताल गाँव के समीप से वन क्षेत्र में जा रहा था। हाथी दल की मॉनीटरिंग के लिये बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व दल भी पीछे था। रात्रि लगभग एक से डेढ़ बजे के बीच हाथियों का दल कक्ष क्रमांक 433 में निर्मित तालाब से गुजरा। इसी दौरान एक मादा हाथी मेड़ पर चढ़कर जाने का प्रयास करने लगी। मेड़ पार करते समय मादा हाथी की सूँड़ ऊपर से गुजर रही 11 के.व्ही. लाइन के तारों को छू गई।

महिला ने सीएम का काफिला रोंका, शिवराज ने सुनी बात और स्कूलों में वसूली जा रही मनमानी फीस…

श्री रहीम ने बताया कि हाथी अनुश्रवण दल द्वारा मौके पर जाकर देखा तो मादा हाथी की साँस चल रही थी परंतु कुछ देर बाद उसकी मृत्यु हो गई। दल के कर्मचारियों ने तुरंत परिक्षेत्र अधिकारी पनपथा को सूचित किया, जो रात को ही मौके पर पहुंचे और मौका निरीक्षण के बाद उसकी सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई।

क्षेत्र संचालक ने अन्य अधिकारी और टाईगर रिजर्व के पशु चिकित्सक डॉ. नितिन गुप्ता के साथ शनिवार सुबह घटना स्थल पर पहुँचकर अपने समक्ष मादा हाथी का पोस्ट मार्टम करवा कर अवयवो के सैंपल सील करवाकर गए। पोस्टमार्टम के बाद मादा हाथी के शव को निर्धारित औपचारिकताओं की पूर्ति कर जेसीबी से गहरा गड्ढा खुदवाकर उसमें नमक और चूना डालकर गढ़वाया गया। इसकी सूचना भी मुख्य वन प्राणी अभिरक्षक एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई।

मध्यप्रदेश के कई इलाकों में बाढ़ का खतरा, अगले 48 घंटे में 24 जिलों में अलर्ट, सीएम ने बुलाई आपात बैठक

[signoff]