रीवा में खाना मांग रहें थें भूखे-प्यासे श्रमिक, मध्यप्रदेश पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

रीवा में खाना मांग रहें थें भूखे-प्यासे श्रमिक, मध्यप्रदेश पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

उत्तर प्रदेश प्रयागराज मध्यप्रदेश राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय रीवा

रीवा। मध्यप्रदेश के रीवा जिले में पैदल ही अपने घर जा रहें श्रमिकों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया है। ये श्रमिक पुलिस की इस बर्बरता का शिकार इसलिए हुए हैं क्योंकि ये भूखें-प्यासे हैं, खाना मांग रहें थें। पर इन गरीबों का दुर्भाग्य ही समझिये की इनकी भूंख दौड़ा-दौड़ा कर लाठी खिलाते हुए बुझाई गई। 

घटना रीवा जिले से लगे मध्यप्रदेश-उत्तरप्रदेश के बॉर्डर की है, जहां दो प्रदेशों की सीमाएं मिलती है। वही सत्ताधीशों ने बेसहारा भूखे मजदूरों को पीटकर अपनी सारी सीमाएं लांघ दी है। 

LOCKDOWN 4.0: 12 राज्यों के इन 30 HOTSPOTS ZONE में कड़े प्रतिबन्ध लगाने वाली है केंद्र सरकार

केंद्र सरकार ने आदेश जारी किया है कि प्रवासी मजदूरों को उनके घर तक सुरक्षित पहुंचाने की जिम्मेदारी राज्य सरकारों की है। ऐसे में राज्य सरकारें अपने-अपने बॉर्डर पर अस्थाई शेल्टर होम बनाकर मजदूरों को रोक रही हैं।

लेकिन ऐसे में मजदूरों के लिए खाने-पीने की व्यवस्था करना बड़ी चुनौती बन गया है। एमपी-यूपी बॉर्डर पर भूख से बेहाल मजदूरों ने प्रदर्शन किया। तो पुलिस ने भूखे और बेबस मजदूरों पर लाठीचार्ज किया।

केंद्र सरकार के आदेश के बाद मध्य प्रदेश के रीवा के चाकघाट बॉर्डर पर पुलिस ने पलायन कर रहे मजदूरों को रोकना शुरु किया। देखते ही देखते यहां हजारों की भीड़ जमा हो गई। इतनी भीड़ के लिए प्रशासन भी तैयार नहीं था।

REWA में मुंबई, सूरत के रेड जोन एरिया से आ रहे लोगो के लिए नया नियम, तुरंत पढ़िए

ऐसे में खाने की मांग करते हुए मजदूरों ने नारेबाजी शुरू कर दी। हालात को संभालने के लिए एसपी आबिद खान भी मौके पर पहुंचे लेकिन ये भी मजदूरों को कोरे वादों की खुराक देकर निकल गए।

लेकिन जब रात 11 बजे तक भी मजदूरों को खाना नहीं मिला तो मजदूरों ने हंगामा शुरू कर दिया। हाइवे जाम कर दी गई। घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर भारी संख्या पर पुलिस बुला ली गई और फिर पुलिस ने भूखे मजदूरों पर लाठीचार्ज किया।

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:  FacebookTwitterWhatsAppTelegramGoogle NewsInstagram