इंदौरियों को Lockdown से दिक्कत नहीं, पर कर दी ऐसी अजीबोगरीब Demand कि प्रशासन भी हैरान है

मुंबई की लाइफस्टाइल फॉलो करने वाला इंदौर (Mini Mumbai) कोरोना पर भी मायानगरी से पीछे नहीं

इंदौर मध्यप्रदेश

मुंबई की लाइफस्टाइल फॉलो करने वाला इंदौर (Mini Mumbai) कोरोना पर भी मायानगरी से पीछे नहीं: इंदौर (Indore). अक्सर मुंबई (Mumbai) की लाइफस्टाइल फॉलो वाला इंदौर यानी मिनी मुंबई कोरोना संक्रमण के मामले में भी मुंबई को फॉलो कर रहा है. हालात यह हैं कि मिनी मुंबई मायानगरी के पीछे-पीछे ही चल रहा है. 

देश में स्वच्छता पर नंबर वन आने वाला मध्यप्रदेश का इंदौर इन दिनों फिर एक बार सुर्ख़ियों पर है. कारण कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या है. हांलाकि इंदौर, मुंबई की तुलना में भौगोलिक एवं जनसँख्या की दृष्टि में काफी छोटा है, परन्तु संक्रमितों के आंकड़े एक छोटे शहर के हिसाब से कहीं ज्यादा हैं. 

कोरोना वायरस से देश में सबसे अधिक महाराष्ट्र प्रभावित है जहाँ अब तक 3204 केस मिल चुके हैं जिनमें 194 लोगों की मौत हो चुकी है. यहाँ अकेले मुंबई में 2003 संक्रमित हैं जबकि मुंबई की लाइफस्टाइल फॉलो करने वाले एवं मिनी मुंबई के नाम से पहचाने जाने वाले इंदौर में 707 केस हैं, जिनमें 39 लोगों की मृत्यु हो चुकी है. इंदौर में संक्रमितों की मौत का आंकड़ा देश में सबसे अधिक है. इंदौर में कोरोना के कारण संक्रमितों में से कुल 12 फ़ीसदी लोगों की मौत हुई है. महाराष्ट्र के बाद दिल्ली 1640, तमिलनाडु 1240, राजस्थान 1169 और मध्यप्रदेश 1164 केस हैं.

अब तक सात लाख लोगों की जाँच

एक अखबार में छपी खबर के मुताबिक 28 लाख की आबादी वाले इस शहर में अब तक स्वास्थ्यकर्मी सात लाख लोगों की जाँच कर चुके हैं. आने वाले पाँच दिनों में बाक़ी नागरिकों की जाँच भी कर ली जाएगी. देश के सबसे स्वच्छ शहरों में शुमार इंदौर में गुरुवार तक कोरोना संक्रमण के कुल 707 मामले सामने आए हैं. पूरे राज्य में ये आंकड़ा सबसे अधिक है. राज्य में कोरोना वायरस के कुल 1164 मामले हैं. इसी शहर में ही कुछ दिनों पूर्व स्वास्थयकर्मियों एवं पुलिसकर्मियों से मारपीट भी की गई थी.

क्यों कहते हैं मिनी मुंबई

  • बहुत से लोग इंदौर में अपने सपनों को पूरा करने आते हैं. अपना करियर बनाने आते हैं. नए व्यवसाय खोलने और एक नयी जिंदगी की तलाश में. जैसे मुंबई सपनों का शहर है वैसे ही इंदौर भी है. बड़ी बड़ी कंपनियां अगर कोई प्रोडक्ट देश भर में लांच करना चाहती हैं तो माइक्रो लेवल टेस्टिंग इंदौर में होती है. उदहारण: देश का पहला प्राइवेट FM radio इंदौर में लांच किया गया था. हिट होने के बाद पूरे देश में लांच किया गया. एक और उदहारण, देश का पहला प्राइवेट लैंडलाइन फ़ोन कनेक्शन भी इंदौर से ही शुरू हुआ.
  • देश के अलग अलग प्रान्तों के लोग आसानी से इंदौर आकर बस जाते हैं. इसे अपना घर बना लेते हैं. जैसा की मुंबई में होता है.
  • यहाँ मुंबई की तरह ही भिन्न भिन्न जगहों और माहौल के लोग एक साथ रहते हैं.
  • खाने पीने के बहुत शौक़ीन हैं. स्ट्रीट फ़ूड का चलन बहुत ज्यादा है.
  • मुंबई की तरह ही यहाँ रहना और यातायात दिन-ब-दिन मुश्किल होता जा रहा है.
  • मुंबई की तुलना में गति बहुत कम है पर विकास निरंतर है. लोगों की मानसिकता भी प्रगतिशील है.
  • जैसे मुंबई के लोग स्वयं को मुंबईकर या मुम्बैया कहने में गर्व महसूस करते हैं वही इंदौर के लोगों में भी है. खुद को ‘इन्दोरी कहते हैं.
  • मुंबई महाराष्ट्र में है. यहाँ देश के तमाम जगहों से लोग आकर बस गए है. भाषा मराठी होने के बावजूद बोल चल की भाषा ‘मुंबईया’ है. वैसे ही इंदौर की भी एक बोलचाल की अलग ही भाषा है ‘इन्दोरी’. दोनों ही पूरे देश में समझी और जाती है. दोनों ही मजाकिया है. लोग इन भाषाओँ को पसंद करते हैं.
  • जैसे मुंबई हर दिन नया होता है ठीक वैसे ही इंदौर भी निरंतर बदलना चाहता है.
  • जैसे मुंबई में एक पसंदीदा नाश्ता है ‘वडा पाँव’, इंदौर में ‘पोहा जलेबी’ है.
  • अपनी हर चीज़ के लिए मुंबई में दीवानगी है. ठीक वैसे ही इंदौर में भी अपनी हर चीज़ के लिए दीवानगी है. मुंबई के लोगों को लगता है कि मुंबई सबसे बेहतर है. इंदौर के लोगों को भी कुछ ऐसा ही लगता है.
Facebook Comments