Corona Cases in India: देश में एक दिन में सबसे अधिक 7 हज़ार केस, भारत एशिया में सबसे अधिक कोरोना प्रभावित

मई तक भयावह हो सकती है मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या

इंदौर भोपाल मध्यप्रदेश

मई तक भयावह हो सकती है मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या: मध्यप्रदेश के लिए मई का महीना काफी चुनौती भरा हो सकता है, क्योंकि इस महीने के मध्य में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में यहां काफी तेजी आ सकती है। यह बात एक अध्ययन में निकल कर सामने आ रही है। इस अध्ययन में अनुमान लगाया गया है कि मध्य प्रदेश में मई के मध्य में कोरोना वायरस महामारी का प्रकोप अपने चरम पर पहुंच सकता है। अध्ययन के मुताबिक इस दौरान राज्य के अस्पतालों में करीब 27,000 अतिरिक्त बिस्तरों की जरूरत पड़ सकती है।

इंदौर के भारतीय प्रबंध संस्थान (IIM-I) के सहायक प्रोफेसर सायंतन बनर्जी ने बताया कि उन्होंने मिशिगन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर वीरा बालदंडयुथपाणि और अमेरिका के इस उच्च शिक्षा संस्थान के तीन अन्य शोधकर्ताओं के साथ यह अध्ययन किया है।

पढ़ें : हर 10 लाख में महज 9 संक्रमित, कोरोना की जंग में अन्य देशों से बेहतरीन है भारत की स्थिति

इस दौरान उन्होंने कहा कि हमारे सांख्यिकीय अध्ययन के अनुसार मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या मई महीने के मध्य में चरम पर पहुंच सकती है। ऐसे में राज्य के अस्पतालों में 12,000 से लेकर 27,000 तक अतिरिक्त बिस्तरों की जरूरत पड़ सकती है। 

इसको लेकर बनर्जी की तरफ से सुझाव दिया गया कि प्रदेश सरकार को चाहिए कि वह लॉकडाउन की अवधि का सबसे ज्यादा इस्तेमाल करते हुए कोविड-19 से लड़ने के लिए चिकित्सा सुविधाएं बढ़ाए। इसके साथ ही सरकार लोगों की और तेजी से कोरोना वायरस जांच कराए। इसके साथ सरकार को इस दौरान पूरी स्वास्थ्य प्रणाली को मजबूत करना होगा। वहीं, जनता को भी सामाजिक मेल-जोल से पूरी तरह दूरी बनाने और साफ-सफाई को लेकर जागरूकता बढ़ाने की जरूरत है।

मध्यप्रदेश में मई के अंत तक 50000 से अधिक मामले 

जैव सांख्यिकी के जानकार ने आशंका जताई है कि अगर प्रदेश में तेज दर से कोविड-19 का फैलाव होता रहा, तो अप्रैल के अंत तक इस महामारी के लगभग 2,500 और मई के अंत तक 50,000 से अधिक मामले सामने आ सकते हैं।

Facebook Comments