Katni में फूटा Corona बम, 4 मरीज एक साथ आए सामने, पढ़िए जरूरी खबर

MP में कोरोना से स्वस्थ होकर आए इंजीनियर को लोग दुत्कार रहे, तंग होकर कर डाला..

मध्यप्रदेश शिवपुरी

MP में कोरोना से स्वस्थ होकर आए इंजीनियर को लोग दुत्कार रहे, तंग होकर कर डाला..

शिवपुरी. दुबई से लौटे पेट्रोलियम इंजीनियर दीपक शर्मा कोरोना पॉजीटिव पाए गए थे। अब ये इलाज के बाद बीमारी से उबर चुके हैं और 4 अप्रैल को घर भी पहुंच गए। लेकिन, इस बीच दीपक के घर के बाहर एक बोर्ड टांग दिया गया। इस बोर्ड पर लिखा गया है- यह मकान बिकाऊ है। मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने संज्ञान लिया है। उन्होंने कहा कि ऐसा करना अमानवीयता है। मैं लोगों से अपील करता हूं कि ठीक होकर आ रहे लोगों से लोग अच्छा व्यवहार करें। सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर उन्हें स्नेह दें।

रीवा से दोनों कोरोना मरीजों को शिफ्ट करने की तैयारी, इस अस्पताल में…

इस संबंध में दीपक ने बताया कि मेरे बीमार होकर घर लौटने के बाद पिता ने मकान बेचने का निर्णय लिया है। पिता ने घर के बाहर तख्ती टंगवा दी है। दीपक का कहना है कि मुझे कोरोना हुआ, यह किसी को भी हो सकती है। इसलिए किसी को किसी के साथ बुरा बर्ताव नहीं रखना चाहिए, बल्कि मुश्किल दौर में हौसला बढ़ाने का काम करना चाहिए। जिस दिन मैं ठीक होकर लौट रहा था उसी दिन से लोग मुझे ऐसे देख रहे थे जैसे मैं हत्या का अपराधी हूं। सोचा कुछ दिन में सब ठीक हो जाएगा। कुछ नहीं बदला, लोग मुझसे और परिवार से बुरा बर्ताव करने लगे है। हमारा पूरा परिवार आत्मग्लानि से घिर गया है।

बैंको ने बदल दिए अपने नियम, ATM से पैसे निकालने की ये हुई लिमिट, तुरंत पढ़े

‘दूध और सब्जी देने वालों को घर आने से रोका जाता है’

दीपक बताते हैं कि अब डिप्रेशन जैसा महसूस होने लगा। जो लोग हमारे घर आते-जाते थे वे हमें दरवाजे पर खड़ा देखकर अपने गेट बंद कर लेते हैं। अब मोहल्ले के लोग उन्हें परेशान कर रहे हैं। दीपक कहते हैं कि लोग जहां रहते हैं वहां उसका सबसे ज्यादा शुभचिंतक पड़ोसी ही होता है।

लेकिन, जब पड़ोसी का व्यवहार खराब हो जाए तो और हालात चिंताजनक हो जाते हैं। हमारे पड़ोसियों ने भी ऐसा ही किया है। अब अति हो गई है। वह एक पड़ोसी का नाम लेकर कहते हैं- वे ट्यूशन पढ़ाते हैं, वह दूधवाले और सब्जी वाले से हमारे घर जाने से मना कर रहे हैं। दूध वाले से उन्होंने कहा- उनके बर्तन मत छूना, वायरस पकड़ लेगा। उनके यहां दूध मत दो। इसके बाद हमारी मां जिस रास्ते से जाती हैं, वे कहते हैं कि इस रास्ते से मत चलो, उनके कदम जहां पड़ रहे हैं उस जगह पर पैर मत रखो, नहीं तो वायरस पकड़ लेगा।

Facebook Comments