मौके की तलाश में Kamalnath, सभी संभावित मंत्रियों को भोपाल में रहने के निर्देश, मंत्री पद की खींचतान में कही सत्ता न चली जाए

कमलनाथ का शिवराज सरकार पर बड़ा हमला, बोलें- एमपी देश का एकमात्र राज्य जहां एक भी मंत्री नहीं

भोपाल मध्यप्रदेश

राहुल गाँधी ने पहले ही आगाह कर दिया था, कांग्रेस सरकार के गिरने का इंतज़ार कर रही थी केंद्र सरकार

भोपाल. कोरोनावायरस (Coronavirus) की महामारी के बीच कमलनाथ ने एमपी की शिवराज सरकार (Shivraj Government) पर बड़ा हमला बोला है. पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Ex CM Kamalnath) ने कहा है की एमपी देश का एकमात्र ऐसा राज्य है जहाँ एक भी मंत्री नहीं है. अगर समय रहते लॉकडाउन किया जाता तो प्रदेश की ऐसी हालत नहीं होती. जब 8 मार्च से सभी विधायक प्रदेश के बाहर बैठे हुए थे तब मैंने 12 मार्च को स्कूल कॉलेज सभी को बंद कर दिया गया था. ऐसी भीषण स्थिति में शिवराज सरकार में एक भी मंत्री नहीं है. 

सरकार गिराने का इंतज़ार कर रही थी केंद्र

कमलनाथ ने कहा की इस मामले में केंद्र की ओर से भी कोई एक्शन नहीं लिया गया. क्योंकि केंद्र सरकार मध्यप्रदेश में सरकार गिराने का इंतज़ार कर रही थी. जब प्रदेश में कांग्रेस सरकार विधानसभा स्थगित करने की बात कर रही थी तो मज़ाक उड़ाया जा रहा था. जैसे ही मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार गिरी और शिवराज सरकार बनी वैसे ही केंद्र सरकार ने पूरे देश में लॉकडाउन लागू कर दिया. 

कोरोना संकट काल में भारत का डंका, कभी मज़ाक उड़ाते थें अब नतमस्‍तक है दुनिया, जानिए वजह

राहुल गांधी ने किया था आगाह

कमलनाथ ने आगे कहा कि राहुल गांधी ने 12 फरवरी को ही आगाह किया था कि कोरोना संकट आने वाला है लेकिन केंद्र सरकार मध्य प्रदेश की सरकार गिराने में लगी थी. मैंने मुख्यमंत्री रहते हुए कॉलेज और मॉल बंद कर दिए थे. हमने कदम उठाने शुरू कर दिए थे. हमने अपने एक प्रकार का लॉक डाउन शुरू किया था लेकिन केंद्र सरकार इंतजार कर रही थी कि नया मुख्यमंत्री शपथ लें. हमारे विधानसभा अध्यक्ष ने विधानसभा कोरोना के कारण स्थगित करने की घोषणा की गई थी तब इसका मजाक उड़ाया गया था. केंद्र ने शिवराज के शपथ लेने के बाद लॉकडाउन शुरू किया.

शिवराज सरकार पर मंत्रिमंडल को लेकर उठाए सवाल

कमल नाथ यहीं नहीं रुकें उन्होंने कहा कि कि मध्य प्रदेश में अभी तक मंत्रिमंडल नहीं है किंतु इस गंभीर हालत में कोई मंत्रिमंडल का ना होना यह तो जनता के मजाक बनाने की बात है. भाजपा ने जिस तरह सरकार बनाई है उनको यह नहीं बोलना चाहिए कि 24 उपचुनाव में से 22 उपचुनाव को जीत कर आए लोगों को प्रलोभन देकर अपनी तरफ खींचा गया. अब स्थानीय लेवल पर भाजपा के कार्यकर्ता इन्हीं नेताओं को अतिक्रमण बताएंगे और उनका भविष्य चौपट है. जनता की भावना को ठेस पहुंचाया इन लोगों ने जनता मूर्ख नहीं है.

Facebook Comments