REWA से RAJENDRA SHUKLA और कटनी से SANJAY PATHAK सहित कई चेहरों को मिल सकता है मंत्रिमंडल में मौका ! क्या नई सरकार भी महाकौशल के राजनैतिक महत्व का मान रखेगी?

कटनी मध्यप्रदेश रीवा

JABALPUR. कमलनाथ की सरकार जाते ही अब पुनः प्रदेश में कमल के खिलने का रास्ता साफ हो गया है. सत्ता परिवर्तन को लेकर चली सियासी खींचतान के बाद अब प्रदेश के मुखिया और मंत्रिमंडल (Cabinet) को लेकर कई नामों पर संभावित दावेदारी दिख रही है. विशेष तौर पर महाकौशल अंचल (Mahakaushal Region) से करीब 4 या फिर उससे अधिक मंत्रियों के शामिल होने की उम्मीद है.

महाकौशल के कई चेहरों को मिल सकता है मौका
प्रदेश से कमलनाथ गए तो अब फिर से कमल की बारी आ गई है. 15 साल की सत्ता खो जाने का गम, 18 महीनों तक तो सह लिया लेकिन अब बारी फिर ताजपोशी की है. सत्ता पर ताजपोशी से पहले वो कौन चेहरे हो सकते हैं जिन्हें ज़िम्मेदारी दी जा सकती है, इस पर चर्चाओं का बाज़ार अब गर्म है. बात महाकौशल की करें तो इस अंचल से करीब 4 या फिर उससे अधिक चेहरे मंत्रिमंडल पर अपनी जगह बना सकते हैं.

पढ़ें : मध्य प्रदेश में CORONA VIRUS की दस्तक! विदेश से जबलपुर लौटे 4 लोग संक्रमित

महाकौशल में भाजपा को हुआ था नुकसान

बीते 2018 के विधानसभा चुनावों में महाकौशल के 8 जिलों की 38 विधानसभा सीटों में भाजपा का बहुमत खिसका था, लेकिन फिर भी कुछ चेहरों ने अपनी छाप बनाए रखी. 38 में से मात्र 13 सीटों पर ही भाजपा अपना कब्ज़ा जमा पाई. बहरहाल जिन चेहरों ने महाकौशल में भाजपा की साख को बचाए रखा, उनके मंत्रिमंडल में शामिल होने की उम्मीद है. इनमें कटनी के विजयराघवगढ़ से पूर्व मंत्री संजय पाठक, रीवा से पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ला, जबलपुर से पूर्व मंत्री अजय विश्नोई, पनागर विधायक सुशील तिवारी, सिवनी विधायक मुनमुन राय, बालाघाट से पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन और नरसिंहपुर से पूर्व मंत्री जालम सिंह पटेल मंत्रिमंडल के सदस्य हो सकते हैं.

यह भी पढ़ें : BHOPAL के सभी मॉल बंद, REWA-BHOPAL ट्रेन सहित ये ट्रेने बंद होगी, बोर्ड परीक्षाएं स्थगित : MP NEWS

महाकौशल का राजनैतिक महत्व समझेगी बीजेपी
जिस तरह से कांग्रेस ने महाकौशल को पावर सेंटर बनाकर रखा था उस लिहाज़ से भाजपा भी अब महाकौशल के राजैनतिक महत्व को समझते हुए मंत्रिमंडल में इन चेहरों को शामिल कर सकती है. बहरहाल कयासों के उठकर भी अगर समझें तो इनमें से लगभग सभी चेहरे कद्दावर हैं, जिनके कैबिनेट में शामिल होने की पूरी पूरी उम्मीदें हैं.

Facebook Comments