विन्ध्य : नीरज ने कहा- मैं तुमसे प्यार करता हूं और शादी करना चाहता हूं, इतने में लड़की का दिल गया पिघल फिर ….

मध्यप्रदेश विंध्य

सतना। आदिवासी युवती को गांव के दबंग परिवार का युवक डरा धमकाकर अपनी हवस का शिकार बनाता रहा। जब युवती गर्भवती हो गई तो दबंग युवक उसे मुंह खोलने पर जान से मारने की धमकी देने लगा। रसूख का असर यह रहा कि कोटर थाना में पीडि़ता से शिकायत तक नहीं ली गई।

12 जुलाई को परिजनों के साथ पीडि़ता ने महिला थाना में शिकायत दर्ज कराई। वहां पर भादवि की धारा 376 (2 ), 366, 306 सहित अन्य के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया गया। हालांकि एफआइआर के बाद भी पुलिस आरोपी को तलाश नहीं पाई है। इधर पीडि़ता ने दुराचार के बाद बच्ची को जन्म दिया है।

ये है मामला
बताया गया, कोटर थानांतर्गत रहने वाला नीरज सिंह पिता नारेंद्र सिंह मोहल्ले की ही आदिवासी युवती को शादी का झांसा देकर एक साल से दुराचार कर रहा था। पीडि़ता जब गर्भवती हो गई तो उसने आरोपी को इसकी जानकारी दी। लेकिन आरोपी ने युवती के आदिवासी होने का हवाला देकर शादी करने से साफ इंकार कर दिया।

कहा- मैं तुमसे प्यार करता हूं और शादी करना चाहता हूं
मामले की शिकायत 12 जुलाई को को महिला थाना में दर्ज कराई गई। वहां पीडि़ता ने बताया कि पड़ोस में रहने वाला नीरज सिंह अक्टूबर 17 को जब परिजन मौजूद नहीं थे तब घर पहुंचा। कहने लगा, मैं तुमसे प्यार करता हूं और शादी करना चाहता हूं। मुझे एक घर में ले जाकर जबरन दुराचार करने लगा। विरोध करने पर जान से मारने की धमकी देने लगा।

शिकायत की तो घर में आग लगा देंगे
पीडि़ता ने आरोप लगाया कि गर्भवती होने के बाद भी आरोपी शादी करने का वादा कर दुराचार करता रहा। जब बताया कि मां बनने वाली हूं, तुमको शादी करनी पड़ेगी तो वह किसी के सामने भी मुंह खोलने पर जान से मारने की धमकी देने लगा। शिकायत करने पर घर में आग लगाने की धमकी दी।

जबरन डिस्चार्ज कराया
प्रसव पीड़ा होने पर आदिवासी युवती को परिजन प्राथमिक स्वास्थ्य लेकर पहुंचे। पीडि़ता ने आरोप लगाया, जहां पर दबंगों के दबाव में दाखिल करने के बाद भी इलाज नहीं किया जा रहा था। यहां तक कि टीका भी नहीं लगाया गया। दबंगों के कहने पर दो दिन बाद जबरन डिस्चार्ज करा दिया गया। छुट्टी का पत्रक भी नहीं दिया गया। दहशत में आए परिजन पीड़िता को घर ले गए। वहां पर पीडि़ता ने 13 जून को बच्चे को जन्म दिया।

पीडि़त द्वारा शिकायत दर्ज कराई गई तो मामले की जांच करवा कर दोषी स्टाप के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
डॉ. अशोक अवधिया, सीएमएचओ

आदिवासी युवती के साथ दुराचार के आरोपी को शीघ्र गिरफ्तार किया जाएगा।
संतोष सिंह गौर, एसपी<